What is Mechanical Seal Hindi – मैकेनिकल सील क्या है ?

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मैकेनिकल सील बहुत महत्व का भाग है। What is Mechanical Seal Hindi के इस आर्टिकल में मैकेनिकल सील क्या है ? उसके प्रकार क्या है ? और किस तरह से मैकेनिकल सील काम करता है ? उसे विस्तार से जानेंगे ।

 

मैकेनिकल सील क्या है ? What is Mechanical Seal Hindi

 

मैकेनिकल सील में हम शील शब्द को समझें, सील करना याने बंध करना, रोकना।

मैकेनिकल सील का काम लीकेज होने से रोकना, रिसाव को रोकना या या दबाव प्रेशर को रोकना है।

अलग – अलग उपकरणों में अलग – अलग परिस्थितियों में सील का उपयोग किया जाता है। कही जगह पे सील अंदर के रिसाव को रोकने का काम करती है, तो कही जगह पे बहार की नमी को रोकने का काम करती है। कही उपकरणों में प्रेसर को रोकने का काम करता है ।

जब दो उपकरण को जोड़ा जाता है, वहा मैकेनिकल सील का इस्तेमाल होता है। एक तरह से ये दोनों उपकरणों को बंध, फिट कर दिया जाता है। इसमें से किसी भी चीज बहार नहीं जा सकती, न ही अंदर आ सकती है।

मैकेनिकल सील का इस्तेमाल ज्यादातर पंप, वेसल और मिक्सचर में उपयोग किया जाता है। किया जाता है। पंप का उपयोग लिक्वीड (तरल ) पदार्थ को ट्रान्सफर करना है। पंप के अंदर यह तरल पदार्थ प्रेसर से घूमता है। यह पदार्थ का रिसाव न हो, लीकेज न हो इसीलिए यहाँ मैकेनिकल सील का इस्तेमाल होता है।

मैकेनिकल सील लीकेज होने वाले हरेक लिक्विड को रोकता है। मैकेनिकल सील में गास्केट, रबर, ओरिंग और PTFE का इस्तेमाल होता है।

 

एक मैकेनिकल सील का सिलेक्शन के लिए क्या पैरामीटर होते है।

एक सील के सिलेक्शन से पहले हमें हमें कुछ पैरामीटर को जानना जरुरी है, जिसे निचे दिया गया है।

1 – सील से टच होने वाला मटेरियल का तापमान कितना रहेगा या रनिंग स्थिति में कितना बढ़ेगा ये जानना जरुरी है। मैकेनिकल सील की तापमान सहन करने की क्षमता त्यय होती है।

2 – मैकेनिकल सील जिस उपकरण में लगाना है, उस उपकरण का आरपीएम कितना रहेगा ये जानना जरुरी है।

3 – पंप से कोनसा मटेरियल पास होने वाला है, इसका गुणधर्म क्या है। इसमें PTFE रबर या गास्केट कारगर रहेगा ये देखना पड़ता है।

4 – मैकेनिकल सील को प्रेसराईस पंप या कम्प्रेसर में उपयोग करना है तो, मैक्सिमम प्रेसर कितना रहेगा ये जानना जरुरी है।

स्टैंडर्ड मैकेनिकल सील में 500 डिग्री तापमान सहन करने की क्षमता और 3600 RPM होती है।

What is Mechanical seal Hindi

What is Mechanical Seal Hindi

 

मैकेनिकल सील के प्रकार –  Mechanical Seal Types

मैकेनिकल सील उपयोग और रचना के आधार पर अलग – अलग है । यहाँ मुख्य मैकेनिकल सील का वर्णन किया गया है ।

 

Balalnce Seal – संतुलित सील

बलैंस सील में ओपनिंग एरिया सामने दिखने वाला फेस एरिया unbalance सील की तरह ही होता है। पर बंद होने वाला एरिया है, वह फेस एरिया के अनुपात में होता है।

इसमें जैसे हम क्लोजिंग एरिया कम करेंगे, क्लोजिंग सरफेस भी कम हो जाएगी।
बैलेंस सील के इस गुण के कारण इसमें ज्यादा तापमान उत्पन्न होता है। और सील की लाइफ बढ़ती है।

बलैंस सील में unbalalnce की तुलना में कम गरमी उत्पन्न होती है।
बैलेंस सील की लाइफ Unbalalnce सील से अधिक होती है।

 

सेंट्रीफ्यूगल पंप में लीकेज को रोकने के लिए सबसेअच्छा ऑप्शन मैकेनिकल सील है। ग्लैंड सील की तुलना में मैकेनिकल सील ही बेहतर है।

 

Unbalalnce Seal – असंतुलित सील

इस प्रकार की सील को बिना ढकनेवाला सील भी कहते है। इस प्रकार की सील कार्यक्षमता विकट परिस्थिति में उभरती है। जहा ज्यादा वाइब्रेशन हो, एलायमेंट सही न हो, कविएशन का प्रॉब्लम हो ऐसे स्थानों ये सील बहुत कारगर साबित होती है।

इस प्रकार की सील का वर्किंग प्रेसर कम रहता है। ये कम प्रेसर वाली जगह पे ही अच्छा आउटपुट दे सकती है।

Unbalalnce सील बहुत ज्यादा ह्यड्रोलिक प्रेसर उत्पन्न करता है। ये प्रेसर दोनों तरफ से मजबूती से बंध करता है।

इस प्रकार की असंतुलित सील संतुलित सील से ज्यादा स्थिर होती है। इस प्रकार की सील में पदार्थ का प्रेसर एक सिमा बढ़ जाता है तो, ज्यादा लोड के कारण ड्राई सील को डैमेज कर देता है।

असंतुलित सील ज्यादा चिकनाई वाले लिक्वीड पदार्थ को संभाल ने की क्षमता है।
जबकि संतुलित सील कम चिकनाई वाले लिक्वीड पदार्थ को संभाल ने की क्षमता है।

 

Pusher Type Mechanical Seal –

इसे ढकनेवाला मैकेनिकल सील भी कहा जाता है। इस प्रकार की सील शाफ़्ट के साथ घूमती है। इसमें स्लीव और सील का कांटेक्ट मेन्टेन रहता है। इस प्रकार की सील वाइब्रेशन और मिस अलाइमेंट में मदद रूप होती है।

आमतौर उपयोग होने वाली ये मैकेनिकल सील किफायती और आसानी उपलब्ध होती है। ये सील अलग – अलग रेंज और साइज में मिलती है।

 

काट्रिज मैकेनिकल सील क्या है ?

काट्रिज प्रकार की मैकेनिकल सील पूरी तरह से क्लोज्ड रहती है। इस सील में ग्लैंड स्लीव, रिंग जैसे भाग होते है। जिसको इकठ्ठा करके एक सील तैयार की जाती है।

इस प्रकार की सील को लगाना बहुत आसान है। इससे इंस्टालेशन कीमत और टाइम कम लगता है।

काट्रिज प्रकार की सील को बदलने के लिए अलग – अलग एंगल का उपयोग कर सकते है। और उसे बदलना बहुत आसान है। और रिपेरे भी कर सकते है।

इस प्रकार की मैकेनिकल सील का मुख्य गेरलाभ यह है की, इसकी शरुआती कीमत ज्यादा होती है और यह ज्यादा जगह रोकता है।

इस प्रकार की सील को बनाने के लिए बहुत ज्यादा माहिती की जरुरत होती है।

 

डबल मैकेनिकल सील 

 मैकेनिकल सील में सिंगल मैकेनिकल सील और डबल मैकेनिकल सील ये दोनों प्रकार होते है। डबल मैकेनिकल सील का उपयोग सेंसिटिव जगह पे किया जाता है। जहा केसिंग का मटेरियल लीकेज होने का कोई चांस नहीं लेना चाहते उस जगह डबल मैकेनिकल सील का इस्तेमाल होता है।

पंप से ट्रांसफर होने वाला हमारा मटेरियल बहुत ज्यादा कीमती है, या फिर यह बहुत ज्यादा खतरनाक है, ऐसी जगह पे इस सील का उपयोग होता है। इसमें बैक तो बैक सील लगी होती है। इसमें सील को कूलिंग करने के लिए कूलिंग वाटर का इस्तेमाल किया जाता है।

इस प्रकार की सील में प्राइमरी सील केसिंग के लीकेज को रोकती है। सेकेंडरी सील कूलिंग वाटर के लीकेज को रोकती है।

 

सिंगल मैकेनिकल सील 

इस प्रकार की सील डबल मैकेनिकल सील की तुलना में कीमत में सस्ती होती है। जहा कम सेंसटिव मटेरियल को ट्रांसफर करना हो ऐसी जगह पे इसका उपयोग किया जाता है। जैसे की पानी का ट्रांसफर, केमिकल का ऐसा पदार्थ जो वातावरण और ह्यूमन के लिए खतरनाक न हो।

डबल मैकेनिकल सील की तुलना में सिंगल मैकेनिकल सील में पदार्थ के लीकेज के चांस ज्यादा रहता है। पर हमें मटेरियल के गुणधर्म और हमारी जरूरियात के हिसाब से इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

What is mechanical seal Hindi

What is Mechanical Seal Hindi

 

मैकेनिकल सील में पानी ( Seal Water ) का इस्तेमाल सील की सरफेस को कूलिंग करने के लिए और लुब्रिकेशन के लिए इस्तेमाल होता है।

 

Advantage of Mechanical Seal – मैकेनिकल सील के लाभ

मैकेनिकल सील पंप की एक जरूरियात है। इसके कुछ लाभ है और गेरलाभ भी है। यहाँ उसका विस्तृत वर्णन है।

  • मैकेनिकल सील बहुत बड़ी मात्रा में तरल पदार्थ को आसानी से पसार करता है। और अलग – अलग गुणधर्म के लिक्वीड आसानी से बिना लीकेज के पास हो सकता है।
  •  Mechanical seal लगाने से पंप का शाफ़्ट और स्लीव को किसी तरह का नुकशान नहीं होता।
  • मैकेनिकल सील का उपयोग अलग – अलग तापमान पे कर सकते है। अलग – अलग प्रेसर पे कर सकते है। वैक्यूम में कर सकते है और अलग – अलग प्रकार के केमिकल में भी कर सकते है।
  • मैकेनिकल सील का रखरखाव करना बहुत आसान है और इसे आसानी से बदला जा सकता है।

 

Disadvantage of Mechanical Seal – मैकेनिकल सील के गेरलाभ
  •  मैकेनिकल सील कीमत में मेहगा होता है, इसीलिए ये कोस्ट बढ़ जाती है।
  •  एक मैकेनिकल सील बनाने के लिए बहुत ज्यादा और सटीक माहिती की जरुरत होती है।
  •  इस ज्यादा जगह की जरुरत पड़ती है।
  •  अकस्मात् के समय में इसे नियंत्रण करना मुश्किल है।
  •  मैकेनिकल सील की रचना जटिल होती है।

 

केमिकल ट्रांसफर करने के लिए ज्यादातर PTFE सरफेस वाली मैकेनिकल सील का ही इस्तेमाल किया जाता है।

 

Q- मैकेनिकल का सील मुख्य काम क्या है ?

Mechanical seal  एक ऐसा उपकरण है, जो एक घूमती हुई शाफ़्ट को दोनों तरफ से बंध ( फिट ) कर देता है। लिक्वीड के प्रेसर को मेन्टेन करता है और लीकेज को रोकता है।

Q- मैकेनिकल सील का उपयोग कहा होता है ?

Mechanical seal  का उपयोग अलग – अलग क्षेत्रो में होता है। इंडस्ट्रीज में केमिकल और लिक्वीड को ट्रान्सफर करने के लिए। ऑटोमोबाइल सेक्टर और जहाज में इसका इस्तेमाल होता है। रहेणांक विस्तरोमे पानी के पंप में इस्तेमाल होता है।

 

Q- मैकेनिकल सील फ़ैल होने के कारण

मैकेनिकल सील फ़ैल होने का मुख्य कारण ख़राब लुब्रिकेशन है। सील का सही तरीके से लुब्रिकेशन नहीं होगा तो सील डैमेज हो सकती है। सतत घूमने वाली जगह पे लुब्रिकेशन नहीं होने से घर्षण उत्पन्न होती है और घर्षण से गर्मी उत्पन्न होती है।

सील का इंस्टालेशन ठीक तरीके से नहीं होगा तो ये जल्दी ख़राब हो जायेगा।

स्पाइरल फ़ैल होने के कारण सील डैमेज हो सकती है।

केमिकल फैक्टरी में पास होने वाला मटेरियल फिक्स न होने कारण सील ख़राब होती है।

त्यय किये गये प्रेसर से बहुत ज्यादा प्रेसर होने के कारण सील ख़राब हो सकती है।

 

मैकेनिकल सील के प्रकार कोनसे होते है ?- Types of Mechanical seal ?

Mechanical Seal उपयोग के आधार पे, मटेरियल के आधार पे और काम करने की पध्धति के आधार पे मैकेनिकल सील अलग – अलग प्रकार की होती है।

  •  कार्ट्रिज सील
  •  बलैंस सील
  •  पुशर सील
  • अनबलैंस सील
  •  गास्केट सील 
  •  बिल्लो सील
  •  रेडियंट शाफ़्ट सील
  •  एक्सियल शाफ़्ट सील
  •  सिंगल मैकेनिकल सील
  •  डबल मैकेनिकल सील

 

मैकेनिकल सील बैलेंस क्या है ?

सील बैलेंस अर्थ है की लोड सम्पूर्ण सील पर बैलेंस है। और यह बहुत ही महत्व पूर्ण है की पूरा लोड बैलेंस रहे।
यदि यह बैलेंस नहीं है तो, मटेरियल का रिसाव होना संभव है।

सील बैलेंस होने से कार्यक्षमता अच्छी रहती है। एनर्जी का सेविंग होता है। सील का लाइफ भी लम्बा रहता है।

 

 वाटर पंप क्या है ?  कैसे काम करता है ?

कम्प्रेसुरे क्या है ? कैसे काम करता है ? और उसके के प्रकार

Mechanical Technician Interview के सवाल और जवाब  

Types of Maintenance in Hindi-रखरखाव के प्रकार

 

What is Mechanical Seal Hindi के इस आर्टिकल मैकेनिकल सील से जुडी माहिती का वर्णन किया गया है । आशा है ये आपके लिए हेल्पफुल होगा। मैकेनिकल सील से जिउँदा कोई सवाल है तो कमेंट कर सकते हो।

Leave a Comment