Electrical

Solar Panel System Installation Cost 2024 | भारत में घरेलू सौर पैनल सिस्टम इंस्टालेशन लागत के बारे में जानें

Solar Panel System Installation Cost in India 2024 :- आधुनिक तकनीकी युग में हमें प्रत्येक क्षेत्र में नई-नई तकनीक देखने का अवसर प्रदान होता है। इस वर्तमान युग में भी एक ऐसी भी तकनीक है जिसका मांग दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। भारत में सौर ऊर्जा का इस्तेमाल वर्तमान समय में शहरी अंचलों से लेकर ग्रामीण अंचलों में भी हो गया है। सौर ऊर्जा से बिजली निर्माण किया जाता है जिससे हमारे घर में बिजली पर निर्भर उपकरण चलाए जाते हैं। सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने के लिए हम लोग सोलर पैनल सिस्टम का उपयोग करते हैं। ऐसे में हमेशा कई लोग अपने घरों में सोलर पैनल सिस्टम स्थापना करना चाहते हैं लेकिन उनको स्थापना प्रक्रिया में खर्च कितना होगा इसकी जानकारी नहीं है।

तो आईए हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से 2024 के लिए सौर सब्सिडी क्या है? What is the Solar Subsidy for 2024 सौर ऊर्जा प्रणाली के घटक | Components of a Solar Energy System, बचत और लागत को प्रभावित करने वाले कारक | Factors Affecting Savings and Costs, घर के लिए सौर पैनल स्थापना की औसत लागत | Average Cost of Solar Panel Installation for Home, भारत में घर की कीमतों के लिए सौर पैनलों के संबंध में बचत की गणना | Calculating Savings in Relation to Solar Panels for Home Prices in India, सौर ऊर्जा प्रणाली क्या है? What is a Solar Energy System? सौर पेनल | Solar Panel सोलर इन्वर्टर | Solar Inverter सौर बैटरी | Solar Battery संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान कर रहे हैं इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

Table of Contents

2024 के लिए सौर सब्सिडी क्या है?

Solar Subsidy 2024: भारत में सोलर पैनल सब्सिडी सरकार की एक महत्वपूर्ण पहल है। जिसका मुख्य उद्देश्य घर मालिकों के लिए सौर ऊर्जा को अधिक सुलभ और किफायती बनाना है। यह सब्सिडी एक केवल वित्तीय प्रोत्साहन नहीं है बल्कि भविष्य के लिए एक सुरक्षित ऊर्जा दिशा में एक रणनीतिक कदम है। सौर सब्सिडी का लाभ देने के लिए सरकार कुछ पात्रता निर्धारित की है जो इस प्रकार के हैं- नागरिक को सौर सब्सिडी प्राप्त करने के लिए भारत का नागरिक होना चाहिए,उम्र 18 वर्ष होना चाहिए, खुद का मकान होना चाहिए, इत्यादि।

सोलर सिस्टम प्रणाली के क्षमता एवं स्थान के आधार पर सब्सिडी की राशि अलग-अलग होती है। देश के अधिकांश राज्यों में किलोवाट तक की सौर ऊर्जा प्रणालियों को ₹14,588/किलोवाट तक की सब्सिडी मिलती है। 3 किलोवाट से 10 किलोवाट तक के सिस्टम को शुरुआती 3 किलोवाट के लिए ₹14,588/किलोवाट और बाकी के लिए ₹7,294/किलोवाट मिलते हैं। 10 किलोवाट से अधिक पर ₹94,822 की निश्चित राशि प्रदान की जाती है।भारत सरकार ने जनवरी 2024 तक केंद्रीय वित्तीय सहायता (सीएफए) सब्सिडी में 23% की वृद्धि की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें: राजस्थान योजना सौर ऊर्जा सब्सिडी

सौर ऊर्जा प्रणाली के घटक | Components of a Solar Energy System

सौर ऊर्जा प्रणाली के घटक निम्नलिखित है:-

फोटोवोल्टिक सौर पैनल ( Photovoltaic Solar Panel )

यह सौर ऊर्जा प्रणाली का प्रमुख तत्व है। जो वाणिज्यिक और आवासीय स्थानों को प्राकृतिक प्रकाश के सूर्य को उपयोगी संसाधन के रूप में उपयोग करने में सहायता प्रदान करता है। सूर्य का प्रकाश सबसे पहले सौर पैनल पर पड़ता है तब जाकर सौर पैनल में लगे बैटरी चार्ज होता है।

इनवर्टर ( Inverter )

सौर ऊर्जा प्रणाली का महत्वपूर्ण हिस्सा जो आवासीय एवं वाणिज्यक संपत्तियों में उपयोग के लिए सौर पैनल ऊर्जा को बिजली में परिवर्तित करता है। इनवर्टर सौर ऊर्जा प्रणाली के सोलर पैनल एवं बैटरी के लाइफ को बढ़ाता है।

सोलर पैनल स्टैंड ( Solar Panel Stand )

सौर ऊर्जा प्रणाली का यह भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है जैसे कि आप लोग जानते हैं किसी भी सौर ऊर्जा प्रणाली को हम लोग अधिकतर छत या किसी खाली स्थान में लगाते हैं जिसके लिए एक मजबूत स्टैंड की जरूरत पड़ता है यह मजबूत स्टैंड आपके सोलर सिस्टम को लंबी लाइफ देता है।

बैटरी (Battery)

बैटरी सौर ऊर्जा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण घटक होता है। सौर बैटरी का उपयोग दिन के समय ऊर्जा को संग्रह करना और रात्रि के समय इसका उपयोग करना होता है।

यह भी पढ़ें:

बचत और लागत को प्रभावित करने वाले कारक | Factors Affecting Savings and Costs

सोलर पैनल सिस्टम को स्थापित करने के बचत और लागत को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित है:-

  1. सिस्टम का आकार:-सोलर पैनल सिस्टम का आकार बचत और लागत को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक है। बड़े आकार का सोलर सिस्टम भारी मात्रा में बिजली निर्माण करता है जिससे आप ग्रिड पर निर्भरता कम कर सकते हैं। हालांकि बड़े सिस्टम प्रणाली के लिए अधिक पैनलों की आवश्यकता पड़ती है सोलर सिस्टम के लागत में वृद्धि हो जाती है जब कि दूसरे तरफ यदि आप छोटे आकार के सोलर सिस्टम लेते हैं तो आपका बचत और लागत कम लगेगा लेकिन बिजली उत्पादन भी काम होगा। इसलिए आप लोग अपनी बिजली की आवश्यकता के अनुसार सोलर सिस्टम का आकार का मूल्यांकन करें।
  2. पैनल गुणवत्ता:-सोलर पैनल गुणवत्ता एवं सोलर सिस्टम के अन्य घटक के गुणवत्ता सोलर सिस्टम के लागत को काफी प्रभावित करता है। उच्च गुणवत्ता पैनल में आमतौर पर बेहतर दक्षता और स्थाईत्व होता है जिसके परिणाम स्वरूप अधिक ऊर्जा उत्पादन और लंबा जीवन काल होता है।
  3. स्थापना जटिलता:- स्थापना जटिलता भी सोलर सिस्टम के लागत को प्रभावित कर सकता है। छत पर लगे सोलर सिस्टम का लागत जमीन पर लगे सोलर सिस्टम के लागत से काफी सस्ता एवं कम खर्चीला होता है।
  4. स्थान:- आपके सोलर सिस्टम लागत को आपके भौगोलिक स्थिति का स्थान भी प्रभावित करता है। यदि आप लोग ऐसे स्थान पर सोलर सिस्टम का स्थापना कर रहे हैं जहां पर सूर्य का प्रकाश काफी अच्छा प्रभाव डालता है ऐसे स्थान में सोलर सिस्टम में पैनल की आवश्यकता कम पड़ती है इससे आपका सोलर सिस्टम लागत कम हो सकता है। इसके अतिरिक्त कुछ ऐसे स्थान है जहां पर सरकार के द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है स्थान पर भी आपके सोलर सिस्टम लागत में कमी आ सकती है।
  5. इनवर्टर प्रकार:– सोलर सिस्टम के लागत को इनवर्टर भी काफी प्रभावित करता है। यदि आप स्ट्रिंग इनवर्टर का चयन करते हैं तो आपके सोलर सिस्टम के लागत अधिक हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना

घर के लिए सौर पैनल स्थापना की औसत लागत | Average Cost of Solar Panel Installation for Home

घर के लिए सौर पैनल स्थापना की औसत लागत का बात करें तो इसका औसत लागत इसके प्रमुख तत्वों के ऊपर निर्भर करता है। इसके प्रमुख तत्व जैसे बैटरी ,सोलर पैनल, सोलर इन्वर्टर, पीवी मॉड्यूल,माउंटिंग स्ट्रक्चर एवं एसीडीबी और डीसीडीबी वायरिंग शामिल होता है। आपके घर के लिए सोलर पैनल की आवश्यकता यह आपके सोलर पैनल स्थापना का औसत लागत हो सकता है। तो आईए हम आपको आपकी आवश्यकता के अनुसार सौर ऊर्जा प्रणाली एवं उनके कीमत का सूची निम्न रूप से प्रदान कर रहे हैं जिसे आप लोग ध्यान पूर्वक पढे:-

सोलर सिस्टम का आकारऔसत लागत
1 किलोवाट सोलर सिस्टम₹65,000- ₹75,000
2 किलो वाट सोलर सिस्टम₹1,40,000- ₹1,50,000
3 किलो वाट सोलर सिस्टम₹1,80,000- ₹1,90,000
5 किलो वाट सोलर सिस्टम₹2,50,000-₹2,70,000
7.5 किलोवाट सोलर सिस्टम₹3,70,000-₹3,90,000
10 किलोवाट सोलर सिस्टम₹4,90,000-₹5,10,000
15 किलो वाट सोलर सिस्टम₹7,00,000-₹7,50,000
20 किलोवाट सोलर सिस्टम₹9,00,000-₹10,00,000

भारत में घर की कीमतों के लिए सौर पैनलों के संबंध में बचत की गणना | Calculating Savings in Relation to Solar Panels for Home Prices in India

1.अपने बिजली बिल की समीक्षा करें:- सोलर पैनल जो अक्सर हम लोग अपने घरों के छत पर लगाते हैं एक स्वच्छ ऊर्जा का उत्पादन करने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करते हैं। घर एवं व्यवसायिक क्षेत्र में दिन के समय ऊर्जा के आवश्यकता को सौर ऊर्जा के द्वारा पूरा किया जाता है। इसके परिणाम स्वरूप आपका निर्भरता ग्रिड पर कम हो जाता है। और इस प्रकार आपका मासिक बिजली का बिल को पूरी तरह से समाप्त तो नहीं किया जा सकता लेकिन कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

बिजली का बिल जितना अधिक होगा घर में सोलर सिस्टम लगाने का वित्तीय लाभ भी उतना अधिक होगा। ध्यान दें कि विद्युत टैरिफ दरे और बिजली का उपयोग दोनों अस्थिरता के अधीन हैं।

View Post

भारत में सोलर पैनल स्थापित करने से आप जिस बचत का उम्मीद कर सकते हैं वह उपयोगिता की बिजली की कीमतों में उतार-चढ़ाव के आधार पर अलग-अलग हो सकती है।ऊर्जा खपत में परिवर्तन भी बचत की मात्रा को समान रूप से प्रभावित करता है।

2.आपको प्राप्त सूर्य एक्सपोज़र का विश्लेषण करें:- सूर्य के अधिक संपर्क से ऊर्जा उत्पादन में वृद्धि होती है। इससे आपके घरों में सौर ऊर्जा के स्थापना से बचत करने की क्षमता बढ़ जाती है। भारत के कई राज्यों में 3 से 5 घंटा सूर्य के प्रकाश का होता है। भारत में सबसे अधिक लंबे दिन होते हैं जिसके कारण सूर्य का प्रकाश अत्यधिक समय तक रहता है। आपका स्थान औसत सूर्य का घंटा यह तय करने में महत्वपूर्ण कारक है कि आप भारत में सोलर सिस्टम की स्थापना के साथ कितना सौर ऊर्जा उत्पादन कर सकते हैं।

प्राप्त सूर्य के प्रकाश के मात्रा के अलावा आपका सौरमंडल का ऊर्जा उत्पादन अन्य कारकों पर भी निर्भर करता है यह है छत का आकार, यह सूर्य के सामने है कैसे हैं और इससे कितनी छाया मिलती है।आप अभी भी उच्च दक्षता वाले सौर पैनलों की स्थापना के साथ छायांकन जैसी प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद,बड़ी मात्रा में सौर ऊर्जा उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं।

3.भारत में सौर पैनलों की कीमत की गणना और तुलना करें:-सौर पैनल एवं अन्य आवश्यक घटकों का खरीद घर पर सोलर पैनल सिस्टम स्थापित करने की लागत का एक बड़ा हिस्सा होता है। सौर पीवी प्रणाली को बनाए रखने की न्यूनतम दीर्घकालिक लागत उच्च प्रारंभिक निवेश की भरपाई कर सकती है। आधुनिक सौर ऊर्जा प्रणाली में कम साफ सफाई रखरखाव की आवश्यकता के साथ ये 25 वर्षों तक चलने के लिए बनाई जाती हैं।

सोलर पैनल की स्थापना के कुल लागत निर्धारण करने से पहले अपने दैनिक जीवन में ऊर्जा खपत की गणना करें। अपने मासिक बिल पर दिए गए विवरण को देखें। इसके अनुसार अपने दैनिक जीवन के ऊर्जा आवश्यकता को पूर्ति करने के लिए सोलर पैनल का चुनाव करें।

एक सामान्य 5 किलोवाट आवासीय सौर प्रणाली की लागत रुपये के बीच होती है। 63 और 71.4 प्रति वाट, या रुपये के बीच। इंस्टॉलेशन शामिल होने पर 3,15,000 और 3,57,000। किसी भी सरकारी सौर सब्सिडी या अन्य प्रोत्साहन से पहले, ये कीमतें बाजार का प्रतिनिधित्व करती हैं।

4.सरकारी सौर सब्सिडी योजना का लाभ उठायें:-रूफटॉप सौर कार्यक्रम चरण – Ⅱ, जिसे हाल में ही एमएनआरई के द्वारा लांच एवं सरल बनाया गया था। जो घर के मालिकों को अपना स्वच्छ ऊर्जा प्रणालियों को उन्नत करने के लिए प्रोत्साहित करता है। छत पर सौर ऊर्जा प्रणाली को स्थापना करने के लिए घर के मालिक एवं आवासीय समिति एक निश्चित सब्सिडी के सहायताके लिए आवेदन करने के पात्र है।

यह भी पढ़ें: सोलर सिस्टम पर कितनी सब्सिडी मिलती है?

सौर ऊर्जा प्रणाली क्या है? What is a Solar Energy System?

एक सौर ऊर्जा प्रणाली 3 मुख्य घटकों से मिलकर  बनी होती है जो सौर ऊर्जा प्रणाली के ढांचे के प्रकार और कार्यप्रणाली को तय करती है:-

सौर पेनल | Solar Panel

आपके द्वारा चुने गए सोलर पैनल का आकार के आधार पर प्रश्न का उत्तर “सौर पैनल को स्थापित करने में कितना खर्च आता है” आपके द्वारा चुने गए पैनल के आकार पर निर्भर करता है। सोलर पैनल के आउटपुट को वाट क्षमता के अनुसार मापा जाता है। जो घर में सोलर पैनल स्थापित करने के लागत निर्धारित करने में महत्वपूर्ण होता है। ग्राहक मुख्य रूप से 250 और 400 वॉट के बीच वॉट क्षमता रेटिंग वाले सौर पैनल चुनते हैं।

प्रकार और मॉडल के आधार पर सौर पैनल का कीमत साधारणतः 40000 रुपया। सौर पैनल मुख्य रूप से तीन किस्म में आते हैं- मोनोक्रिस्टलाइन, पॉलीक्रिस्टलाइन और बाइफेशियल।

  • मोनोक्रिस्टलाइन सौर पैनल:17% से 22% की उच्च दक्षता रेटिंग के साथ, मोनोक्रिस्टलाइन सौर पैनल अधिक महंगे आते हैं। इस प्रकार सोलर पैनल का औसत लागत 43 और रु. 63 प्रति वाट के साथ मोनोक्रिस्टलाइन सौर पैनल स्थापना अधिक महंगी है, लेकिन यह प्रति वर्ग फुट क्षेत्र में उच्च ऊर्जा उत्पादन का वादा करती है।
  • पॉलीक्रिस्टलाइन सौर पैनल: पॉलीक्रिस्टलाइन आधारित पीवी पैनल की प्रति-पैनल निर्माण लागत कम होती है, जो इसे ग्राहकों के लिए सबसे सस्ती विकल्प बनाती है। हालांकि मोनो पैनल की तुलना में कम कुशल (15% से 17%) होता है,पॉली पैनल की कीमत रु. 30 से रु. 36 प्रति वाट. सौर ऊर्जा प्रणाली को तैयार करने के लिए पॉली सोलर पैनल का उपयोग करना ग्राहकों के लिए एक बजट अनुकूल विकल्प होता है।
  • बाइफेशियल सोलर पैनल: यदि आप अपने सोलर पैनल स्थापना से अधिकतम ऊर्जा उत्पादन चाहते हैं , तो बाइफेशियल सोलर पैनल के विकल्प पर विचार करें।आगे और पीछे दोनों तरफ सौर सेल से निर्मित  बाइफेसियल सौर पैनल,जो इसे उच्च मात्रा में सौर बिजली उत्पन्न करने में सक्षम बनाता है। 20% और उससे अधिक की दक्षता रेटिंग के साथ, बाइफेशियल सौर पैनलों की लागत रु। 37 से रु. 52 प्रति वाट।

सोलर इन्वर्टर | Solar Inverter

एक कार्यशील सोलर सिस्टम प्रणाली के लिए सोलर इनवर्टर एक महत्वपूर्ण घटक होता है।यह उपकरण सौर ऊर्जा से उत्पन्न डायरेक्ट करंट (डीसी) बिजली को प्रत्यावर्ती धारा (एसी) बिजली में परिवर्तित करता है। केवल एसी बिजली ही घरों और व्यवसायों को चलाने के लिए उपयुक्त है। आश्चर्य है कि इन्वर्टर स्थापित करने में कितना खर्च आता है ? सोलर इन्वर्टर का आकार सौर मंडल के आकार पर निर्भर करता है। जैसे-जैसे सौर ऊर्जा संस्थापन बड़ा होता जाता है, सौर इनवर्टर की लागत बढ़ती जाती है ।

सौर बैटरी | Solar Battery

उपभोक्ता अपने सौर प्रणालियों की विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए सौर ऊर्जा संयंत्र प्रतिष्ठानों में सौर बैटरियों को एकीकृत करना चुनते हैं । चूंकि सौर पैनल रात के समय निष्क्रिय हो जाते हैं, इसलिए सौर बैटरियों में संग्रहीत ऊर्जा आपकी बिजली की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम हो सकती है। सौर पैनल + बैटरी प्रणाली के साथ, आप अप्रत्याशित ग्रिड आउटेज से बच सकते हैं और 24/7 बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कर सकते हैं।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न हम सुझाव है तो आप लोग हमारे कमेंट्स बॉक्स में आकर अपने प्रश्नों को पूछ सकते हैं, हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे।

FAQ’s: Solar Panel System Installation Cost 2024

Q. भारत में 1 किलोवाट सोलर पैनल का कीमत कितना है?

Ans.भारत में 1 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत लगभग 75000 से लेकर 50000 रुपए तक हो सकता है।

Q. सोलर सिस्टम प्रणाली के मुख्य घटक क्या है?

Ans.सोलर सिस्टम प्रणाली के मुख्य घटक निम्नलिखित है:-

  • सोलर पैनल
  • इनवर्टर
  • सोलर बैटरी

Q. सोलर सिस्टम प्रणाली के सोलर पैनल कितने प्रकार के होते हैं?

Ans.सोलर सिस्टम प्रणाली के सोलर पैनल मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं:-

  • मोनोक्रिस्टलाइन, 
  • पॉलीक्रिस्टलाइन
  • बाइफेशियल।

Q.10 किलोवाट सोलर पैनल से अधिक पर कितना सब्सिडी प्राप्त होगा?

Ans.कोई सब्सिडी प्राप्त नहीं होगा।

Show More
यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi