Safety

Safety Speech In Hindi – सुरक्षा दिवस स्पीच

National Safety Day Speech In Hindi

आज 4th मार्च सुरक्षा दिवस है ।  Safety Speech In Hindi के इस आर्टिकल में सुरक्षा दिन के लिए  यहाँ से भाषण तैयार कर सकते है। Safety Week Celibration के दौरान इंडस्ट्रीज में Safety Speech Compition का आयोजन होता है। इसे Safety Day Speech भी कहते है, और Industrial Safety Speech भी कहते है।

इंडस्ट्रीज में Safety Speech Compition  का आयोजन National Safety Week के दौरान होता है। इसका मुख्य मकसद कर्मचारी में सुरक्षा के प्रति जागरूक करने का होता है।

निचे सुरक्षा दिवस के लिए एक सैंपल स्पीच लिखी है। मुझे आशा है ये आपके लिए Helpfull होगी।

 

Safety Speech In Hindi

 

   4th March National Safety Day-Safety Week

 

यहाँ उपस्थित मैनेजर, इंजीनियर, एवं सभी कर्मचारी। आज 4th March याने National Safety Day. और आज से ही शरू होता है National Safety Week. ये मेरा अहोभाग्य है की इस अवसर पे अपने विचार रखने का मौका मिला।

सुरक्षा सबके जीवन का हिस्सा होना चाहिए। कोन कहा काम करता है ? कैसा काम करता है ? कितने साल का अनुभव है ? ये कोई भी चीज सुरक्षा के सामने मान्य नहीं रखता।

हमारे जीवन का आनेवाला हरएक क्षण बेहतर बनाना चाहते है। तो हमें सुरक्षा को हमेशा अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए।

 

सुरक्षा के हिसाब से देखे तो कुछ काम ऐसे जरूर है जिसमे जोखिम ज्यादा है। जैसे की कोयले की टनल में काम करना। बहुत ज्यादा और कम तापमान वाली जगह पे काम करना। सिविल काम बिल्डिंग के बांधकाम करना।

और सबसे अहम् है इंडस्ट्रीज में काम करना। ये ऐसी जगह है जहा सुरक्षा का विशेष रुप से ध्यान दिया जाता है। 

 

हमारे देश में इंडस्ट्रीज अंग्रेजो के शाशन काल से चलती है। सन 1947 में देश आज़ाद हुआ। और सन 1948 में  फैक्टरी सुरक्षा नियमो का गठन किया गया। उस नियमो के आधार पे फैक्टरी में काम करने वाले कर्मचारी की  सुरक्षा होनी चाहिए ये त्यय हुआ।

जैसे समय बीतता गया। टेक्नोलॉजी बढ़ती गयी। लोगो की सुरक्षा के प्रति जागरुकता बढ़ती गयी। और सरकारे भी सुरक्षा के नए नियम जोड़ती रही।

आज 4th मार्च को हम नेशनल सेफ्टी दिवस के तोर पे मना रहे है। उसका श्रेय हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृणन को जाता है। सन 1965 में उनकी अध्यक्षता में एक बैठक हुयी थी।

उस बैठक में औद्योकीकरण को बढ़ावा देने एवं कर्मचारी की सुरक्षा के कुछ खास नियम बनाये गए। और उसका नाम रखा गया राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद्। (National safety Council) उस बैठक में जो निष्कर्ष हुआ वो था वो यह था ,,,,, की 

Safety is Responsibility of Management with Active Co-Operation of worker And With The Sanction And Support of Government.(कर्मचारी का सक्रीय सहकार और सरकार की स्वीकृति और समर्थन के साथ, सुरक्षा की जिम्मेदारी मैनेजमेंट की है।

 

सन 1972 में NSC द्वारा त्यय किया गया की, हरसाल 4th मार्च को नेशनल सेफ्टी दिवस के तोर पे मनाया जायेगा। ये 1974 में सेफ्टी डे को सेफ्टी वीक में बदला गया।

एक दिन के बदले एक वीक के लिए celebrate करना त्यय हुआ। तब से लेके आज तक सेफ्टी वीक का आयोजन किया जाता है।

 

हम देख रहे है आजकल तो ये देश की हरएक इंडस्ट्रीज में मनाया जाता है। सिर्फ सेफ्टी डे नहीं पर 4 से 10 मार्च तक सेफ्टी वीक को सेलिब्रेट किया जाता है।

इंडस्ट्रीज में सेफ्टी वीक के दौरान कुछ अलग ही माहौल नजर आता है। एक उत्सव की तरह उसे मनाया जाता है। पुरे वीक का schedule त्यय हो जाता है।

 

हरएक कंपनी के मैईन गेट पे 4 to 10th March Safety Week Celebration के बोर्ड लगाए जाते है।

 

औद्योगिक सुरक्षा, स्वास्थ्य सुरक्षा, पर्यावरण सुरक्षा,सड़क सुरक्षा सभी क्षेत्र की सुरक्षा के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए Safety Week Celebration होता है।

जिस तरह कंपनी प्रोडशन अचीवमेंट के लिए गोल त्यय करती है। ठीक उसी तरह सुरक्षा के अचीवमेंट के लिए भी गोल त्यय किये जाते है।

आज हरएक कंपनी में सेफ्टी का एक डिपार्टमेंट होता है। जिसमे सेफ्टी ऑफिसर होता है। ये ऑफिसर कम्पनी के कर्मचारी को सुरक्षा के प्रति सजाग रखने का काम करता है।

 

किसी भी कर्मचारी को काम पे भेजने से पहले उसे सुरक्षा की पूरी ट्रेनिंग दी जाती है। साथ ही सुरक्षा से जुड़े अलग- अलग विषय पे काम करता है। जिससे कर्मचारी और संस्था दोनों सुरक्षित रहे।

 

Safety Week का सेलिब्रेशन सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाए करती है।

 

कंपनी का हरएक कर्मचारी इस उत्सव को उत्साह से मनाता है। सेफ्टी के नए स्लोगन कंपनी में लगाए जाते है। सेफ्टी सेलिब्रेशन का बोर्ड लगाया जाता है।

 

Safety Week सेलिब्रेशन के दौरान हरएक दिन का कार्यक्रम फिक्स हो जाता है। अलग-अलग competition रखी जाती है।

 

एक सर्वे के अनुशार रोड एक्सीडेंट से करीब 1.5 लाख लोगो की मृत्यु हमारे देश में होती है। वैसे ही हजारो लोग फैक्टरी में अकस्मात के भोग बनते है।

 

दुर्घटना किसी भी साथ हो सकती है। न कोई वो कोई इन्सान को पहचानती है। न किसी के अनुभव को। हमारी बेदारकारी, हमारी लापरवाही, हमारा over confidence ही अकस्मात् को निमंत्रण देता है।

 

याद रखे – जर्मन साइंटिस्ट एच डबल्यू हेनरिच ने सन 1930 में कहा था। दुर्घटना होती नहीं है। की जाती है।

 

हम सुरक्षित है तो हमारा परिवार सुरक्षित है। जवान सुरक्षित है तो हमारा देश सुरक्षित है।

 

इंडस्ट्रीज में कर्मचारी द्वारा PPE का कही बार अनादर किया जाता है। कोई बड़े साहब और सेफ्टी ऑफिसर को देख के पहना जाता है।

 

याद रखे – सुरक्षा के उपकरण हमें किसी को बताने के लिए नहीं, अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए पहनना है।

 

National Safety Week के दौरान क्या आयोजन होता है ?

 

National Safety Day-Week मानाने अलग-अलग competition का आयोजन किया जाता है। ये Competition फैक्टरी के सभी कर्मचारी के लिए होती है।

4th मार्च से पहले पूरी कंपनी में सेफ्टी के पोस्टर एवं स्लोगन लगाया जाता है।

सबसे पहले 4th मार्च को सेफ्टी वीक का inauguration कार्यक्रम होता है। इसमें फैक्टरी मैनेजर दिप प्रागट्य से इनोग्रेशन करते है। बादमे फैक्टरी के सभी कर्मचारी सेफ्टी की सपथ लेते है।

 

Various Safety Competition on National Safety Week

सेफ्टी पखवाडिया के उत्सव में अलग – अलग कही प्रकार की प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। ये सभी प्रतियोगिता का मुख्या मकसद लोगो को सुरक्षा के प्रति जागरूक करने का है। और यह प्रतियोगिता में कर्मचारी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते है। सेफ्टी वीक सेलिब्रेशन से जुडी तमाम माहिती निचे उपलब्ध है।

1- Safety  Essay Competition – इसमें हम किसी भी भाषा में निबंध लिख सकते है।इसमें 300 शब्दों में निबंध  लेखन करना होता है।

 

2- Safety Poster Competition – इसमें सेफ्टी पोस्टर की साइज त्यय की जाती है। और ये पोस्टर इंडस्ट्रियल सेफ्टी के आधार पे ही होना चाहिए। सेफ्टी पोस्टर competition में कही बार कर्मचारी के फॅमिली को भी involve किया जाता है।

 

3- Contest on SCBA सेट SCBA (self-contained breathing apparatus) को पहनके त्यय किया हुआ डिस्टन्स पे कम समय में पहोचना होता है।

 

4- HSE Improvement Suggestion HSE (Health Safety और Environment) के बहेतरी के लिए यदि कोई सुझाव है तो दे सकते है।

 

5- Safety Slogan – अलग-अलग भाषा में स्लोगन बनाया जाता है। अच्छा और नया स्लोगन को ज्यादा प्राधान्य दिया जाता है।

 

6- Safety Poem – सेफ्टी को ध्यान में रख के कविता का competition होता है। इसमें भी हम अलग-अलग भाषा में लिख सकते है। परिवार के सदस्य को भी इन्वॉल्व कर सकते है।

 

7- Safety Quiz Competition – HSE के आधार पे  प्रश्न पत्र होता है। ऑप्शन टाइप के प्रश्न ज्यादा होते है।

 

8- Safety Talk Competition – सेफ्टी के विषय पे त्यय किया गया समय में अपने विचार रखने है। इसमें Safety Speech In Hindi, English और कोई भी प्रांतीय भाषा में हम अपने विचार रख सकते है।

 

सभी कॉम्पिटिशन के बाद 1st, 2nd औऱ 3rd विनर घोषित किया जाता है। और जितने वाले को इनाम से पुरस्कृत किया जाता है।

 

हम क्यों सेफ्टी वीक मनाते है ? Industrial Safety

  • HSE (Safety Health और Environment) के प्रति अपनी प्रतिबद्धता बढ़ाने के लिए।
  • सुरक्षा और पर्यावरण के प्रति लोगो की जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए।
  • Work place को सुरक्षित रखने के लिए हमारी जिम्मेदारी को बढ़ावा देना है।
  • सभी लोगो की HSE के प्रति जुड़ाव और प्रतिबद्धता बढ़ाना है।
  • किसी भी साइट पे HSE कल्चर को बढ़ावा देना है।
  • HSE (Health Safety Environment) की सभी गतिविधि में कर्मचारी की सशक्त भागीदारी को बढ़ावा देना है।
  • विभिन्न सुरक्षा प्रचारक गतिविधियों द्वारा सुरक्षा के प्रति सजगता फैलाना है।
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह में लोगो की सहभाग से सुरक्षा का वातावरण को बढ़ाना और प्रेरित करना है।
  • सेफ्टी Competition में आकर्षक उपहार और पुरस्कार देकर कर्मचारी को प्रेरित करना है।
  • अपनी संस्था के प्रति, अपने देश के प्रति, अपने परिवार के प्रति अपनी फर्ज अदा करने की एक तक खड़ी करना है।

Safety Poem in Hindi- सुरक्षा पर कविता

 

Industrial Safety Work- 

 

1 – Work परमिट सिस्टम- किसी भी इंडस्ट्रीज में बहुत इम्पोर्टेन्ट है। कोई भी काम करने से पहले सम्बंधित डिपार्टमेंट की परमिशन लेना जरुरी होना चाहिए। जिसमे हॉट वर्क, कोल्ड वर्क, Hight वर्क जैसे परमिट की सिस्टम तैयार करता है और इसे इम्प्लीमेंट करता है।

 

2 – Hazard Reporting- कंपनी में कोई अकस्मात् होता है। या कोई अनिच्छनीय घटना होती है तो उसका पूरा रिपोर्ट तैयार होता है। और ये रिपोर्ट मैनेजमेंट को दिया जाता है।

 

3 – Safety कमिटी – सेफ्टी में कर्मचारीओ का सहकार अनिवार्य है। इसीलिए, हरएक डिपार्टमेंट से कर्मचारी का सिलेक्शन करके एक कमिटी बनायीं जाती है। जिसमे कर्मचारी अवं कंपनी की सुरक्षा चर्चा होती है। 

 

4 – सेफ्टी पालिसी बनाना और इम्प्लीमेंट कराना- कंपनी के काम करने वाले सभी वर्कर के लिए एक पालिसी तैयार करते है। और उसी पालिसी के आधार पे हरएक काम किया जाता है।

 

5 – fire extinguisher Training- फायर सुरक्षा का बहुत ही महत्व का अंग है। सभी कर्मचारी को फायर एक्सटीन्गुइशेर की ट्रेनिंग दी जाती है। कोनसा एक्सटीगुइशेर कैसे इस्तेमाल करना है। कहा इस्तेमाल करना है ये सभी की ट्रेनिंग सुरक्षा ऑफिसर से मिलती है।

 

6 – Fire Fighting Training- फायर फाइटिंग में जब आग लगी हो तो कैसे बजाए इसकी ट्रेनिंग दी जाती है। ये ट्रेनिंग भी सुरक्षा ऑफिसर सभी कर्मचारीओ को देता है।

 

7 – PPE के इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग- PPE या ने सेफ्टी शूज़, हेलमेट, मास्क, एअर प्लग, सेफ्टी बेल्ट, SCBA सेट विगेरे पर्सनल प्रोटेक्टिव उपकरण है। पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट्स को उपयोग करने का एक खास तरीका होता है।  जिससे Safety Officer हमें माहितगार करता है।

 

ऐसे बहुत सरे काम सेफ्टी ऑफिसर करता है। जिसे कर्मचारी और कंपनी दोनों सुरक्षित रहता है। हमारा फर्ज ये है की हम उनको सहकार दे। जिससे हम और हमारा परिवार सुरक्षित रहे।

 

भाषण के अंत में सुरक्षा के कोई स्लोगन से अपनी स्पीच को विराम दे ।

 

SAFETY SLOGEN

अकस्मात को अगर है पूरी तरह हराना।

तो सुरक्षा में लापरवाही कभी ना करना।

 

सेफ्टी वीक सेलिब्रेशन के दौरान सुरक्षा से सम्बंधित बहुत सारी Compition का आयोजन होता है। जिसमे सेफ्टी स्लोगन, सेफ्टी एस्से, सेफ्टी क्विज शामिल है। पूरा सप्ताह इसे बहुत ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है।

 

 Road Safety Slogans In Hindi- सड़क सुरक्षा स्लोगन

Road Safety Essay In Hindi- सड़क सुरक्षा पर निबंध

Safety Slogan In Hindi- सुरक्षा स्लोगन हिंदी  

Industrial Safety Essay In Hindi – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध 

 Safety Slogan in Gujarati – ગુજરાતી સેફટી સ્લોગન

 

Safety Speech In Hindi के इस आर्टिकल से आप सुरक्षा दिवस के लिए स्पीच तैयार कर सकते हो। अपने संस्था की अपरिस्थिति के अनुशार इसमें बदलाव कर सकते हो। इसमें कोई मदद की जरुरत हो तो कमेंट बॉक्स में लिख सकते हो।

Show More
यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi