HIndi

Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi | रवि कुमार सिहाग का जीवन –

Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi

दोस्तों सपने तो हर कोई देखता है लेकिन उसे पूरा करने की हिमत किसी किसी के पास होती है आज की इस पोस्ट Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi में आपको ऐसे ही एक व्यक्ति के बारे में बताएंगे जिसने अपनी हिमत और मेहनत के दम पर अपने सपनों को पूरा किया और बहुत से लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत बना

हम बात कर रहे है रवि कुमार सिहाग की जिन्होंने 2021 की UPSC परीक्षा में 18 रैंक हासिल की थी आपको बता दे की रवि कुमार एक किसान परिवार से है उन्होंने अपने जीवन में आने वाली समस्याओ का पूरी हिमत से सामना किया तथा हर न मानकर अपने सपनों को पूरा किया

उनके जीवन से बहुत से लोगों को प्रेरणा मिलती है इसलिए हमने इस पोस्ट में रवि कुमार सिहाग के जीवन से जुड़ी सारी जानकारी तथा उनके जीवन में आए संघर्ष के बारे में विस्तार से बताया है जिसे पड़कर आपको भी अपने सपनों को पूरा करने के लिए प्रेरणा मिलेगी

रवि कुमार सिहाग का जन्म और परिवार

Ravi Kumar Sihag का जन्म 2 नवंबर 1995 में चक 3 बीएएम, विजयनगर, श्रीगंगानगर, राजस्थान में हुआ था इनके पिता का नाम रामकुमार सिहाग तथा माता का नाम विमला देवी है

Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi

Image credit – From Instagram – ravisihag01

रवि कुमार के पिता एक किसान है और माँ एक हाउस वाइज़ है रवि कुमार की 2 बड़ी बहने और एक छोटी बहन भी है इनकी सबसे बड़ी बहन पूनम सिहाग की शादी हो चुकी है

वो एक हाउस वाइफ है तथा दूसरे बड़ी बहन रवीना सिहाग एक टीचर है और सबसे छोटी बहन कोमल रायसिंह नगर में कृषि पर्यवेक्षक है

नाम  रवि कुमार सिहाग
जन्म तारीख  2 नवंबर 1995
जन्म स्थान  विजयनगर, श्रीगंगानगर, राजस्थान
धर्म   हिन्दू
जाति  बिश्नोई
वैवाहिक स्थिति  अवैवाहिक
शौक खेती करना तथा वर्काउट करना
सैलरी 56,100 रुपये+टीए,
पेशा   IAS अधिकारी
उम्र 28 साल

रवि कुमार सिहाग की शिक्षा | Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi

कक्षा 1 से लेकर 5 तक की पढ़ाई रवि कुमार ने अपने गाँव के एक छोटे से स्कूल सरस्वती विध्या मंदिर से की थी और श्री गंगा सागर जूनियर स्कूल में इन्होंने 10 वी तक की पढ़ाई की

जिसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए रवि कुमार ने अनूपगढ़ के शारदा कॉलेज में Admission लिया जहां से इन्होंने 11 वी और 12वी कक्षा की पढ़ाई की फिर उसके बाद इसी कॉलेज से इन्होंने B.A. की पढ़ाई पूरी की जिसके बाद रवि कुमार UPSC की तैयारी करने लगे

पिता का नाम रामकुमार सिहाग
माता का नाम विमला देवी
स्कूल शारदा कॉलेज, श्रीगंगानगर
कॉलेज न्यू आफ सीनियर सैकंडरी स्कूल, श्रीगंगानगर
परीक्षा में प्रयास 4 बार
रोल नंबर 6624586
शिक्षा मीडीअम हिंदी माध्यम
मार्क्स और रैंक रैंक 18 वी तथा मार्क्स -1022

Ravi Kumar का संघर्ष भरा जीवन –

आज के समय में रवि कुमार लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणा बन गए है लेकिन उनका जीवन संघर्ष से भरा हुआ था आज वो जिस उचाई पर है वहाँ तक पोहचने के लिए उन्होंने अपने जीवन में बहुत संघर्ष का सामना किया

जैसा की हमने पहले बताया की रवि कुमार के पिता एक किसान थे इसलिए रवि कुमार अपने पिता की खेती में हाथ बटा दिया करते थे और उन्हे खेती से जुड़ी कई समस्याओ का सामना करना पड़ता था

की बार खेती की समस्या के कारण उन्हे  कलेक्टर के पास जाना पड़ता था ताकि उनकी समस्या का समाधान हो सके बस वही से रवि के मन में कलेक्टर बनने के बात बैठ गई और रवि कुमार ने IAS अधिकारी बनने का निर्णय कर लिया

जिसके के उन्होंने चार बार UPSC की परीक्षा दी उनकी इस journey का वर्णन हमने नीचे विस्तार में किया है

रवि कुमार का UPSC परीक्षा में पहला प्रयास –

वर्ष 2015 में रवि कुमार सिहाग ने अपनी Graduation की परीक्षा पास की जिसके बाद 2 साल बाद ये UPSC की तैयारी करने लग गए थे इन्होंने किसी भी कोचिंग संस्था को जॉइन नहीं किया

ये खुद ही पढ़ाई किया करते थे उनको अंग्रेजी के मुकाबले हिन्दी में पढ़ना आसान लगता था इसलिए इन्होंने हिन्दी भाषा में UPSC की परीक्षा की तैयारी शुरू की

लेकिन हिन्दी मीडीअम में UPSC परीक्षा की तैयारी करने में सबसे बड़ी दिक्कत ये आती है की हिदनी भाषा में बहुत स मटीरीअल उपलब्ध नहीं है जिसके कारण उन्हे बहुत सी चुनोतीयों का सामना करना पड़ा

उन्होंने अंग्रेजी के नोट्स को हिन्दी में translate करके  पढ़ाई शुरू की वर्ष 2018 में उन्होंने UPSC की पहली परीक्षा दी जिसमे इन्होंने 337 वी रैंक प्राप्त की और इन्हे  भारतीय रेल यातायात सेवा में नोकरी मिल गई उन्होंने नोकरी जॉइन करली लेकिन ये कभी भी अपने लक्षय को नहीं भूले और परीक्षा में अच्छी रक लाने के लिए पढ़ाई करते रहे

परीक्षा में दूसरा प्रयास –

2019  में रवि कुमार सिहाग ने दूसरी बार UPSC की परीक्षा दी जिसमे उन्होंने फिर सफलता हासिल की और इनकी 317 रैंक आई जिसके चलते इन्हे इंडियन डिफेन्स अकाउंट सर्विस में नोकरी मिली और इन्होंने अपनी पुरानी नोकरी को छोड़ दिया

क्यों की उस नोकरी में इन्हे परीक्षा की तैयारी के लिए समय नहीं मिलता था लेकिन IDAS की नोकरी में रवि कुमार को परीक्षा की तैयारी के लिए काफी समय मिलने लगा

तीसरा प्रयास –

2020 में रवि कुमार ने परीक्षा में तीसरा प्रयास किया जिसमे इन्हे बहुत बड़ी असफलता का सामना करना पड़ा क्योंकी तीसरी बार ये prelims की परीक्षा को भी पास नहीं कर पाए थे लेकिन इन्होंने हार नहीं मानी और दुगनी मेहनत के साथ चौथे प्रयास की तैयारी करने लगे

चौथा प्रयास –

तीसरी प्रयास में असफल होने के बाद रवि कुमार ने अपने पढ़ने के तरीके में कुछ बदलाव किए और तैयारी करने के बाद 2021 में इन्होंने फिरसे चौथी बार UPSC की परीक्षा दी

जिसमे इनको सफलता प्राप्त हुई और इन्होंने ऑल इंडिया रैंक में 18 वी रैंक हासिल की जिसके चलते उन्हे IAS पद प्राप्त हुआ उन्होंने अपनी पुरानी नोकरी IDAS को छोड़ दिया और IAS भारतीय प्रशासनिक सेवा को जॉइन कर लिया

FAQ about Ravi Kumar Sihag Biography in Hindi

रवि कुमार सिहग ने कितनी बार UPSC की परीक्षा दी है ?

उत्तर – रवि कुमार सिहाग ने 4 बार UPSC की परीक्षा दी थी जिसमे उनको तीन बार असफलता का सामना करना पड़ा उनकी अच्छी रैंक नहीं आई लेकिन चौथी बार उन्होंने 18 वी रैंक हासिल करके IAS के पद को हासिल किया

रवि कुमार सिहाग का जन्म कब हुआ था –

उत्तर – 2 नवंबर 1995 में रवि कुमार का जन्म श्री गंगा नगर राजस्थान में एक छोटे से गाँव में एक किसान परिवार में हुआ था

रवि कुमार सिहाग आज किस पद पर है –

उत्तर – रवि कुमार सिहाग आज के समय में IAS अधिकारी के पद पर है और काफी लोगों के लिए प्रेरणा बने हुए है

रवि कुमार के पिता क्या काम करते है –

उत्तर – रवि कुमार सिहाग के पिता एक किसान है रवि कुमार अक्सर खेती में उनका हाथ बताया करते थे

Conclusion –

आशा करते है की दोस्तों आपको रवि कुमार सिहाग के जीवन के बारे में पढ़कर बहुत सी प्रेरणा मिली होगी आज के समय में जो भी छात्र UPSC की तैयारी कर रहे हा उन्हे रवि कुमार के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए और अपने सपनों को पूरा करने के लिए लगातार मेहनत करते रहना चाहिए

उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी कृपया करके इस पोस्ट को अपने उन दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जो UPSC की तैयारी कर रहे है ताकि उन्हे रवि कुमार के जीवन से कुछ सिख मिल सके और वो अपने सपनों को पूरा कर सके

Also read This –

1. रामधारी सिंह दिनकर का जीवन परिचय 

2. मीरा बाई का जीवन परिचय और इतिहास 

3. सूर्यकांत त्रिपाठी का जीवन परिचय,रचनाएँ और इतिहास

4. मैथिली शरण गुप्त जी का जीवन परिचय  

Show More
यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi