Ohm’s law in Hindi-ओम का नियम, Ohm’s law Definition

Ohm’s Law in Hindi के इस आर्टिकल में हम इस नियम के बारेमे विस्तार से समझेंगे। ओम का नियम क्या है ?इलेक्ट्रिकल पैरामीटर पे इसकी क्या असर होती है। और सर्किट में अननोन पैरामीटर की वैल्यू कैसे पायी जाती है ? ये हम आज इस आर्टिकल में समझेंगे।


 What is Ohm’s Law

Ohm’s law को विस्तार से समझते है। दोस्तों इलेक्ट्रिसिटी को गहराई से समज ने के लिए Ohm’s law – ओम का नियम बहुत मददगार हे। इलेक्ट्रिक करंट किसे कहते हे ? वोल्टेज किसे केहते हे ? रेजिस्टेंस किसे कहते हे ? उसकी Definition से हम समज सकते हे।

पर इलेक्ट्रिक सर्किट में वोल्टेज की वैल्यू क्या हे? उसकी वैल्यू से क्या क्या परिणाम आ सकते हे? और आने वाले परिणाम से सर्किट को सलामती पूर्वक चलाने के लिए हमें क्या करना चाहिए ? वो सब जानकारी हमें ओम लो से मिल सकती हे। जिसे हम ohm’s law in Hindi में विस्तार से समझेंगे।

इलेक्ट्रिक सर्किट में रहने वाले करंट, वोल्टेज और रेजिस्टेंस में से किसी भी एक का मूल्य अप्रदर्शित हे तो ohm’s law के फार्मूला से प्रदर्शित कर सकते हे। 

 


ohm’s law  ओम का नियम


Ohm’s law Definition 

यदि किसी कंडक्टर की भौतिक अवश्था अपरिवर्तित रहे तो पूर्ण सर्किट में बहने वाला विद्युत दबाव (Voltage) सर्किट में बहने वाला विद्युत धारा(Current) के समप्रमाण(Direct proportional) होता हे। और सर्किट में रूकावट डालने वाले अवरोध के विलोभानुपात (Inversely Proportional)होता हे।

 

Ohm’s law Formula – ओम लो का सूत्र

ओम लॉ के तीन मुख्या पैरामीटर वोल्टेज, करंट और रेजिस्टेंस ये तीनो की वैल्यू कैसे जान सकते है, ये निचे की इमेज में फार्मूला के साथ दिखाया है। आगे हम इसे एक्साम्प्ले के साथ समझेंगे।

Ohm's law in Hindi
Ohm’s law equation

 

Unit – इकाई 

1- वोल्टेज का यूनिट वाल्ट हे जिसे  V से दर्शाया जाता हे। 1mV = 0.001V OR 1000mV =1V     

2- करंट का यूनिट एम्पेयर हे जिसे I से दर्शाया जाता हे। 1mA = 0.001A OR 1000mA =1A  

3- रेजिस्टेंस का यूनिट ओम हे जिसे R से दर्शाया जाता हे। 1mΩ = 0.001Ω OR 1000mΩ =1Ω       

यादरखे – इलेक्ट्रिकल फील्ड से जुड़े हुए कोई भी व्यक्ति को ओम लो जानना बहुत जरुरी है। हमारी फील्ड में तो हमारे काम आता ही है, पर साथ में सबसे ज्यादा इंटरव्यू में पूछे जाने वाले सवालों में से एक है।

 

How To Use Ohm’s law – With Example

 

A – Ohm’s law formula for Ampere

यदि हमारे पास सर्किट में वोल्टेज और प्रतिरोध का मूल्य उपलब्ध हे। और हमें सर्किट में बहने वाला करंट का मूल्य पता करना हे,तो हम निचे दिए गए उदहारण से समज सकते हे।

यहां सर्किट में एप्लाइड वोल्टेज 240v है। सर्किट का रेजिस्टेंस 30Ω ओम है। हमें एम्पेयर निकाल ना है, जिसे हम फ़ॉर्मूला से निकाल सकते है।

Ohm's law in Hindi
          ohm’s law in Hindi -Find Ampere

 

Electrical Interview Questions- Transformer

बैटरी के प्रकार उपयोग एवं मेंटेनेंस

 

B – Ohm’s law formula for Voltage

यदि हमारे पास सर्किट में करंट और प्रतिरोध का मूल्य उपलब्ध हे। और हमें सर्किट में बहने वाला वोल्टेज का मूल्य पता करना हे, तो हम निचे दिए गए उदहारण से समज सकते हे।

यहां सर्किट में लोड करंट 8A एम्पेयर है। सर्किट का रेजिस्टेंस 30Ω ओम है। हमें सर्किट का वोल्टेज निकाल ना है, जिसे हम फ़ॉर्मूला से निकाल सकते है।

 

Ohm's law in Hindi
            ohm’s law in Hindi-Find Voltage

 

Electrical Interview Questions-Motor

 

याद रखे – ओम का नियम (Ohm’s Law) का आविष्कार ज्योर्ज सायमन जॉन ने संन – 1827 में किया था।

 

C – Ohm’s law formula for Resistance

यदि हमारे पास सर्किट में करंट और वोल्टेज का मूल्य उपलब्ध हे। और हमें सर्किट में बहने वाला प्रतिरोध का मूल्य पता करना हे, तो हम निचे दिए गए उदहारण से समज सकते हे।

यहां सर्किट में एप्लाइड वोल्टेज 230v है। सर्किट में लोड करंट 8A एम्पेयर है। हमें यहां सर्किट का रेजिस्टेंस निकाल ना है, जिसे हम निचे दिया गया फार्मूला से निकाल सकते है।

 

Ohm's law in Hindi
  ohm’s law in Hindi -Find Resistance

 

Electrical Interview Question-Circuit Breaker

Electrical Safety And Hazards

वैक्यूम सर्किट ब्रेकर (VCB) कार्य -भाग

 

 Application of ohm’s law ओम के नियम के मुख्य प्रयोग 

1 – Electric Circuit के वोल्टेज, प्रतिरोध या करंट का निर्धारण करने के लिए।

2 – ओम का नियम इलेक्ट्रॉनिक घटकों में वांछित वोल्टेज ड्रॉप को बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाता है।

3 – ओम के नियम का उपयोग DC Ammeter और अन्य DC Shunt में करंट को मोड़ने के लिए भी किया जाता है।

 

  ओम लॉ की सीमाएं – Limitation of Ohm’s law

वो विशेष परिस्थितिया जहा ओम का नियम लागु नहीं होता उसे ओम लो की सीमाएं कहते हे। या फिर लिमिटेशन ऑफ़ ओम लॉ कहते हे।

1- ओम का नियम(Ohm’s Law) मेटालिक कंडक्टर पे लागु होता हे। वो भी तब जब उसका तापमान स्थिर रहे। यदि तापमान में बदलाव अत हे तो वह ये नियम काम नहीं करता।

2- ट्रांजिस्टर और डायोड जैसे एक तरफ़ा, एक दिशामे करंट पसार करते हे। एक दिशा में करंट पसार करने की अनुमति देने वाले इलेक्ट्रिकल एलिमेंट के लिए ओम का नियम लागु नहीं हे। या तो ऐसी जगह पे ओम का नियम काम नहीं करता हे।

3- Non liner Element – अरेखीय अवयव, जैसे इलेक्ट्रिक आर्क, Radio Valves, Gas filled Tube में प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा (करंट) प्रयुक्त किया गया विद्युत दबाव (वोल्टेज) के सीधे अनुक्रमानुपाती (Directly Proportional)नहीं होती हे। इसीलिए इन चालकों पर दिए गए वोल्टेज और करंट के लिए रेजिस्टेंस की वैल्यू अलग अलग होती हे। और यही कारण हे की ओम लॉ यहां काम नहीं करता हे।

4- ओम का नियम (Ohm’s Law) इंसुलेटर एवम नॉन कंडक्टर धातु (अधातु) पे लागु नहीं होता।

 

Imporatance of Ohm’s law- ओम लॉ का महत्व 

इलेक्ट्रिकल सर्किट में तीन पैरामीटर बहुत महत्व का है। जिसमे वोल्टेज, करंट और प्रतिरोध । ये तीनो प्रतिरोध का मूल्य एक सर्किट में जानने भी बहुत जरुरी होता है।

एक इलेक्ट्रिक सर्किट में ये तीनो पैरामीटर वोल्टेज करंट और अवरोध का मूल्य जान सकते है। ये तीन में से कोई भी दो पैरामीटर हमरे पास है तो हम तीसरा पैरामीटर की वैल्यू  Ohm’s law की मदद से जान सकते है।

ohm’s law में तीनो पैरामीटर की वैल्यू जानने के लिए फार्मूला दिया है। जिसे हमें ऊपर उदाहरण के साथ देखा है। इलेक्ट्रिकल सर्किट में ये तीनो की वैल्यू जानना बहुत जरुरी है। और ये तीनो की वैल्यू के लिए OHM’S LAW का Impotant है।

हर एक इंटरव्यू में पूछे जाने वाले कॉमन सवाल -जवाब

 

Ohm’s Law FAQ- ओम के नियन से जुड़े सवाल 

1- Ohm’s लॉ की खोज किसने और कब की ? 

Ohm’s लॉ का अविष्कार ज्योर्ज सायमन जॉन ने सन 1827 में किया था।

2 -ओमीय प्रतिरोध किसे कहते है ?

ओम के नियम का पालन करने वाला प्रतिरोध होता है, इसे ओमीय प्रतिरोध कहते है।

3- ओम का नियम क्या है ?

अचल तापमान की इलेक्ट्रिकल सर्किट सर्किट में वोल्टेज, करंट और रेजिस्टेंस की वैल्यू जानने के लिए ओम का नियम का यूज़ होता है।

 

Basic Electrical In Hindi – इलेक्ट्रिकल बेसिक

Mager Kya Hai Hindi – IR Value कितनी होनी चाहिए ?

दोस्तों में जरूर कहना चाहूंगा की यदि आप इलेक्ट्रिकल फील्ड से जुड़े हे तो ओम का नियम (Ohm’s LAW in Hindi) को जरूर याद रखे। निसंकोच ये हमें हमारे वर्क प्लेस में तो काम आता हे। साथ ही साथ कैरियर आगे बढाने में भी मदद करता हे क्युकी, 80% इंटरव्यू में पूछे जाने वाले प्रश्नो में से एक हे।

 

2 thoughts on “Ohm’s law in Hindi-ओम का नियम, Ohm’s law Definition”

Leave a Comment