CBSE Class 10CBSE Class 11CBSE Class 12CBSE CLASS 9

NEET 2017 Chemistry Question Paper with Solutions PDF

NEET 2017 Chemistry Question Paper with Solutions PDF

नीट रसायन विज्ञान प्रीवियस ईयर पेपर पीडीएफ डाउनलोड – NEET Exam हर साल राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) द्वारा आयोजित की जाने वाली सबसे बड़ी स्नातक मेडिकल प्रवेश परीक्षा है। रसायन विज्ञान एक ऐसा विषय है जिसमें NEET परीक्षा में कुल प्रश्नों की अधिकतम संख्या शामिल होती है। इसलिए जो विद्यार्थी NEET परीक्षा की तैयारी कर रहे है ,उन्हें पिछले वर्ष के एनईईटी रसायन विज्ञान प्रश्न पत्र को देखकर तैयारी करनी चाहिए. इससे विद्यार्थी को पता चल जाता है की NEET का पेपर कैसा आता है और तैयारी भी अच्छे से हो जाती है. नीचे आपको NEET 2017 Chemistry Question Paper PDF with Solutions दिया गया है .जिससे आप अपनी तैयारी को बहेतर बना सकते है .

My contact number

उस गैस का नाम बताइये जो कि अम्लीकृत KMnO4 के विलयन को आसानी से रंगहीन कर देती है:

(a) SO2
(b) NO2
(c) P2 O5
(d) CO2
उत्तर. SO2

My contact number

एक तत्व Z = 114 का हाल ही में आविष्कार हुआ है। यह निम्न में से किस परिवार / वर्ग तथा इलेक्ट्रोनिक विन्यास से संबंधित होगा ?

(a) कार्बन परिवार, [Rn] 5f14 6d10 7s 2 7p2
(b) ऑक्सीजन परिवार, [Rn] 5f14 6d10 7s2 7p4
(c) नाइट्रोजन परिवार, [Rn] 5f14 6d10 7s2 7p6
(d) हैलोजन परिवार, [Rn] 5f14 6d10 7s2 7p5
उत्तर. कार्बन परिवार, [Rn] 5f14 6d10 7s 2 7p2

My contact number

फेनिल मेथिल ईथर को HI के साथ गर्म करने पर बनता है:

(a) आयडोबेंजीन
(b) फिनॉल
(c) बेंजीन
(d) ऐथिल क्लोराइड
उत्तर. फिनॉल

My contact number

निम्न में से कौन सा अम्लता के लिये सही क्रम है?

(a) CH=CH>CH3 – C=CH> CH2 = CH2>CH3—CH3
(b) CH=CH>CH2=CH2>CH3-C=CH>CH3 – CH3
(c) CH3– CH3 > CH2=CH2> CH3 – C=CH>CH=CH
(d) CH2=CH2> CH3-CH=CH2>CH3-C=CH>CH=CH
उत्तर. CH=CH>CH3 – C=CH> CH2 = CH2>CH3—CH3

निम्न में से कौन से क्षारीय धातु आयनों की आर्यानक गतिशीलता निम्नतम है जब इनके लवणों के जलीय विलयन को विद्युत क्षेत्र में रखा जाता है?

(a) K
(b) Rb
(c) Li
(d) Na
उत्तर. Li

1: 1 आर्थो एवं पैरा- नाइट्रोफिनॉल के मिश्रण के पृथक्करण के लिये सबसे उचित विधि है :

(a) वर्णलेखन (क्रोमेटोग्राफी)
(b) क्रिस्टलन
(c) प्रभाजी आसवन
(d) ऊर्ध्वपातन
उत्तर. प्रभाजी आसवन

क्लोरोजाइलिनॉल तथा टर्पीनऑल का मिश्रण इस रूप में कार्य करता है:

(a) पूतिरोधी
(b) ऐन्टीपायरेटिक
(c) प्रतिजैविक
(d) पीड़ाहारी
उत्तर. पूतिरोधी

सिग्मा आबंधित कार्बधात्विक यौगिक का उदाहरण है:

(a) ग्रीगनार्ड अभिकर्मक
(b) फेरोसीन
(c) कोबाल्टोसीन
(d) रुथिनोसीन
उत्तर. ग्रीगनार्ड अभिकर्मक

एक प्रथम कोटि का विशिष्ट अभिक्रिया वेग 10-2 sec-1 है। 20g अभिकारक के 5 g तक होने में कितना समय लगेगा ?

(a) 138.6 sec
(b) 346.5 sec
(c) 6 93.0 sec
(d) 238.6 sec
उत्तर. 138.6 sec

Ag2C2O4 के संतृप्त विलयन में Ag+ आयन की सान्द्रता 2.2 × 104 molL-1 है। Ag2C2O4
का विलेयता गुणनफल है :

(a) .66×10-12
(b) 4.5×10-11
(c) 5.3 × 10-12
(d) 2.42 × 10-8
उत्तर. 5.3 × 10-12

निम्न में से किस यौगिकों के युग्म समइलेक्ट्रानी एवं समसंरचनात्मक है?

(a) Tel2,XeF2
(b) IBr2, XeF2
(c) IF 3, XeF2
(d) BeCl2,XeF2
उत्तर. IBr2, XeF2

निम्न में से कौन सा कथन गलत है?

(a) अनिश्चितता सिद्धान्त के अनुसार ΔE x Δt ≥h / 4𝜋
(b) अर्द्धपूरित एवं पूरित कक्षकों का उच्च स्थायित्व उच्च विनिमय ऊर्जा, उच्च सममिति, अधिक संतुलित व्यवस्था के कारण है।
(c) हाइड्रोजन जैसे परमाणुओं के लिए 2s कक्षक की ऊर्जा 2p कक्षक की ऊर्जा से कम होती है।
(d) डी- ब्रोगली तरंगदैर्ध्य है जहाँ m = कण का द्रव्यमान , V कण का समूह वेग.
उत्तर. हाइड्रोजन जैसे परमाणुओं के लिए 2s कक्षक की ऊर्जा 2p कक्षक की ऊर्जा से कम होती है।

निम्न में से कौन सा कथन असत्य है ?

(a) क्रिस्टलों में शॉटकी दोष से घनत्व घटता है।
(b) NaCl(s) विद्युतरोधी, सिलिकन अर्द्धचालक, सिल्वर चालक, क्वार्टज दाब विद्युत क्रिस्टल है।
(c) फ्रेंकल दोष उन आयनिक पदार्थों द्वारा दिखाया जाता है जिसमें धनायन एवं ऋणायन के आकार लगभग समान होते हैं।
(d) FeO0.98 में नॉनस्टाइकियोमिट्री धातु न्यूनता दोष है।
उत्तर. फ्रेंकल दोष उन आयनिक पदार्थों द्वारा दिखाया जाता है जिसमें धनायन एवं ऋणायन के आकार लगभग समान होते हैं।

स्पीशीज जिसमें आबंध कोण 120° है

(a) ClF3
(b) NCI3
(c) BCI3
(d) PH3
उत्तर. BCI3

एक अभिक्रिया के लिये ΔH = 35.5kJ mol-1 तथा ∆S = 83.6 JK-1 mol-1 है। अभिक्रिया किस तापमान पर स्वत: प्रवर्तित है ? : (मान लीजिये ∆H एवं ∆S ताप से अप्रभबित है)

(a) T> 425K
(b) सभी तापों पर
(c) T >298K
(d) T< 425K उत्तर. T> 425K

निम्न में से कौन CO के लिये सिंक है?

(a) रेत में उपस्थित सूक्ष्म जीव
(b) महासागर
(c) पादप
(d) हीमोग्लोबिन
उत्तर. रेत में उपस्थित सूक्ष्म जीव

एक तनु विलयन की मोललता को दुगुना किया जाता है तो मोलल अवनमन स्थिरांक (Kf) होगा :

(a) आधा
(b) तिगुना
(c) अपरिवर्तित
(d) दुगुना
उत्तर. अपरिवर्तित

निम्न में से कौन ताप पर निर्भर है ?

(a) मोलरता
(b) मोल भित्र
(c) भार प्रतिशत
(d) मोललता
उत्तर. मोलरता

निम्न में से कौन सा कथन सही नहीं है?

(a) अभिक्रिया की साम्यवस्था में उत्प्रेरक की उपस्थिति में साम्यवस्था स्थिरांक का मान परिवर्तित होता है।
(b) एन्जाइम मुख्यत: जैव रसायनिक अभिक्रियाओं को उत्प्रेरित करते हैं।
(c) सह – एन्जाइम एन्जाइम की उत्प्रेरण क्रियाशीलता को बढ़ाते हैं ।
(d) उत्प्रेरक किसी भी अभिक्रिया को प्रारम्भ नहीं करता है।
उत्तर. अभिक्रिया की साम्यवस्था में उत्प्रेरक की उपस्थिति में साम्यवस्था स्थिरांक का मान परिवर्तित होता है।

संकुलों CoCl3 6NH3, CoCl3.5NH3, CoCl 3.4NH3 को आधिक्य AgNO3 के साथ क्रिया करवाने पर स्टॉइकियोमेट्री AgCI बनने का में सही क्रम क्रमश: है :

(a) 3AgCl, 1 AgC1, 2 AgCl
(b) 3 AgCl, 2 AgCl, 1 AgCl
(c) 2 AgCl, 3 AgCl, 1 AgCl
(d) 1AgCl, 3 AgCl, 2 AgCl
उत्तर. 3 AgCl, 2 AgCl, 1 AgCl

इलेक्ट्रॉनस्नेही के लिये सही कथन है:

(a) इलेक्ट्रॉनस्नेही ऋणात्मक आवेशित स्पीशीज है तथा दूसरे इलेक्ट्रॉनस्नेही से इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करके आबंध बना सकता है।
(b) इलेक्ट्रॉनस्नेही सामान्यतः उदासीन स्पीशीज है तथा नाभिकस्नेही से इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करके आबंध बना सकता है।
(c) इलेक्ट्रॉनस्नेही उदासीन या धनात्मक आवेशित स्पीशीज है तथा नाभिकस्नेही से इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करके आबंध बना सकते हैं।
(d) इलेक्ट्रॉनस्नेही ऋणात्मक आवेशित स्पीशीज है तथा नाभिकस्नेही से इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करके आबंध बना सकता है।
उत्तर. इलेक्ट्रॉनस्नेही उदासीन या धनात्मक आवेशित स्पीशीज है तथा नाभिकस्नेही से इलेक्ट्रॉन युग्म को ग्रहण करके आबंध बना सकते हैं।

एक गैस का अच्छे रोधी पात्र में 2.5atm स्थिर वाह्रय दाब के विरुद्ध प्रारम्भिक आयतन 2.50 L से अन्तिम आयतन 4.50L तक प्रसार किया जाता है। गैस की आंतरिक ऊर्जा में परिवर्तन AU, जूल में होगा:

(a) -500J
(b) -505J
(c) + 505J
(d) 1136.25J
उत्तर. -505J

ऐसीटऐमाइड के मेथिल ऐमीन में रूपान्तरण के लिए निम्न में से कौन सी अभिक्रिया उचित है?

(a) हॉफमान हाइपोब्रोमाइड अभिक्रिया
(b) स्टीफेन अभिक्रिया
(c) गैब्रिएल थैलिमाइड संश्लेषण
(d) कार्बिलऐमीन अभिक्रिया
उत्तर. हॉफमान हाइपोब्रोमाइड अभिक्रिया

ऐथेन के संरूपणों के लिए निम्न में से कौन सा कथन सत्य है ?

(a) आबंध कोण परिवर्तित होता है जबकि आबंध लम्बाई अपरिवर्तित है।
(b) आबंध कोण एवं आबंध लम्बाई दोनों ही परिवर्तित है।
(c) आबंध कोण एवं आबंध लम्बाई दोनों ही अपरिवर्तित है।
(d) आबंध कोण अपरिवर्तित है जबकि आबंध लम्बाई परिवर्तित होती है।
उत्तर. आबंध कोण एवं आबंध लम्बाई दोनों ही अपरिवर्तित है।

आबंधन में संयोजी कोष के ns2 इलेक्ट्रॉनों के भगीदारी की असक्षमता के कारण होता है:

(a) Sn2+ ऑक्सीकृत होता है जबकि Pb4+ अपचयित
(b) Sn2+ एवं Pb2+ दोनों ही ऑक्सीकृत एवं अपचयित होते हैं।
(c) Sn4+ अपचयित होता है जबकि Pb4+ ऑक्सीकृत
(d) Sn2+ अपचयित होता है जबकि Pb4+ ऑक्सीकृत
उत्तर. Sn2+ अपचयित होता है जबकि Pb4+ ऑक्सीकृत

Co3+ के संकुलों के लिये दृश्य में अवशोषण तरंगदैर्ध्य का बढ़ता हुआ सही क्रम है :

(a) [Co(H2O)6]3+,[Co(en)3]3+, [Co(NH3)6]3+
(b) [Co(H2O)6]3+, [Co(NH3)6]3+, [Co(en)3]3+
(c) [Co(NH3)6]3+, [Co(en)3]3+, [Co(H2O)6]3+
(d) [Co(en)3]3+,[Co(NH3)6]3+, [Co(H2O)6]3+
उत्तर. [Co(en)3]3+,[Co(NH3)6]3+, [Co(H2O)6]3+

निम्न में से किस स्पीशीज के युग्म का आबंध कोटि समान है

(a) O2, NO+
(b) CN, CO
(c) N2, O2
(d) CO, NO
उत्तर. CN, CO

सोने एवं चाँदी के निष्कर्षण में CN आयन से निक्षालन होता है। चाँदी को बाद में पुनः प्राप्त इसके द्वारा किया जाता है:

(a) आसवन
(b) मंडल परिष्करण
(c) Zn से विस्थापन
(d) द्रावगलन परिष्करण
उत्तर. Zn से विस्थापन

एक 20 लीटर के पात्र में CO2 (g) 400K एवं 0.4 atm दाब पर तथा आधिक्य में SrO (SrO के आयतन को नगण्य माने) है। पात्र का आयतन इसमें उपस्थित चल पिस्टन से कम किया जाता है। जब पात्र CO2 के दाब का मान उच्चतम होगा तब पात्र का उच्चतम आय में होगा : (दिया गया SrCO3 (s) = SrO (s) + CO2 (g), Kp = 1.6 atm)

(a) 10 लीटर
(b) 4 लीटर
(c) 2 लीटर
(d) 5 लीटर
उत्तर. 5 लीटर

[Mn (CN) 6] 3- के लिये सही कथन बताइये:

(a) यह sp3 d2 संकरित तथा चतुष्फलकीय है।
(b) यह d2 sp3 संकरित तथा अष्टफलकीय है।
(c) यह dsp2 संकरित तथा वर्ग समतलीय है।
(d) यह sp3 d2 संकरित तथा अष्टफलकीय है।
उत्तर. यह d2 sp3 संकरित तथा अष्टफलकीय है।

ऐक्टिनॉयडों में ऑक्सीकरण अवस्था का परास अधिक होने का कारण :

(a) ऐक्टिनॉयड आकुंचन
(b) 5f, 6d तथा 7s स्तरों की समतुल्य ऊर्जा
(c) 4f एवं 5d स्तरों की ऊर्जायें आस पास में
(d) ऐक्टिनॉयडों की रेडियोऐक्टिव प्रकृति
उत्तर. 5f, 6d तथा 7s स्तरों की समतुल्य ऊर्जा

निम्न में से कौन सा कथन सही नहीं है?

(a) ऑवलबुमीन अण्डे की सफेदी में एक खाद्य संग्रह है।
(b) रक्त प्रोटीन थ्रोमबिन एवं फिब्रिनोजन का योगदान रक्त का थक्का बनाने में है।
(c) विकृतीकरण प्रोटीन को अधिक सक्रिय करते हैं।
(d) इंसुलीन मानव शरीर रक्त में शर्करा के स्तर को बनाये रखता है । जीव विज्ञान
उत्तर. विकृतीकरण प्रोटीन को अधिक सक्रिय करते हैं। Download PDF

इस पोस्ट में आपको NEET Chemistry Solved Question Paper neet chemistry question paper Neet chemistry question paper with answers pdf Neet chemistry question paper pdf download neet chemistry question paper with solutions pdf नीट 2017 रसायन विज्ञान प्रश्न पत्र रसायन विज्ञान NEET Practice Questions नीट रसायन विज्ञान प्रीवियस ईयर पेपर, नीट 2022 रसायन विज्ञान प्रश्न पत्र समाधान से संबंधित काफी महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर दिए गए है यह प्रश्न उत्तर फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसके बारे में आप कुछ जानना यह पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे.

Show More

Related Articles