CBSE Class 10CBSE Class 11CBSE Class 12CBSE CLASS 9

Kamasutra Book in Hindi PDF Download Free [2023]

दोस्तों यदि आप Kamasutra Book in Hindi PDF मुफ्त में Download करना चाहते है तो एकदम सही जगह पर आये है। आज की इस पोस्ट में हम आपको वात्स्यायन के कामसूत्र की पुस्तक Pdf फॉर्मेट में उपलब्ध करवाने जा रहे है, जिसे आप पोस्ट में दिए गए Download Link की सहायता से आसानी से फ्री में Download कर सकते है।

वात्स्यायन के कामसूत्र में कुल सात भाग है, जिसके अंतर्गत प्रत्येक भाग अलग-अलग अध्यायों में विभाजित है। प्रत्येक अध्याय में श्लोक शामिल किये गए है। वात्स्यायन के कामसूत्र पुस्तक में साहित्यप्रेमियों के लिए पहले संस्कृत श्लोक उपलब्ध करवाया गया है और प्रत्येक श्लोक के ठीक निचे उसका हिंदी अनुवाद शामिल किया गया है।

यदि आप कामसूत्र पुस्तक को विस्तृत रूप से पढ़ना चाहते है तथा इस पुस्तक की अपने जीवन में उपयोगिता को जानना चाहते है तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़े, जिसके अंतर्गत आप यौन संहिता के बारे में जान पाएंगे।

Kamasutra Book in Hindi PDF Details

Kamasutra Book in Hindi PDF
PDF Title Kamasutra Book in Hindi PDF
Language Hindi
Category Book
PDF Size 25 MB
Total Pages 160
Download Link Available
PDF Source freehindipdfbooks.com
NOTE - Kamasutra Book in Hindi PDF Free Download करने के लिए निचे दिए गए Download बटन पर क्लिक करें। 

Kamasutra Book in Hindi Buy Link

Kamasutra Book in Hindi PDF

महर्षि वात्स्यायन भारत के महत्वपूर्ण साहित्यकारों में से एक है। महर्षि वात्स्यायन ने कामसूत्र ने दाम्पत्य जीवन का श्रृंगार किया है, बल्कि कला, शिल्पकला और साहित्य को भी सम्पादित किया है। जिस प्रकार अर्थ के क्षेत्र में जो स्थान कौटिल्य का है, ठीक उसी प्रकार काम के क्षेत्र में वही स्थान महर्षि वात्स्यायन का है।

महर्षि वात्स्यायन का कामसूत्र विश्व की प्रथम यौन संहिता है, जिसमे यौन प्रेम के मनोशारीरिक सिद्धांतो तथा प्रयोग की विस्तृत रूप से व्याख्या एवं विवेचना की गयी है। संसार की प्रत्येक भाषा में इस ग्रथ का अनुवाद किया गया है। इसके अनेक भाष्य और संस्करण भी प्रकाशित हो चुके है।

काम की व्याखा

ग्रन्थ में काम की व्याख्या द्वि-आयामी है। प्रथम सामान्य तथा द्वितीय विशेष। सामन्य के अंतर्गत पंचेन्द्रिओ द्वारा प्राप्त होने वाले आनंद एवं रोमांस का समावेश किया गया है, जिसका प्रत्यक्ष सम्बद्ध मन और चेतना से जुड़ा हुआ है। इन्ही के द्वारा मनोशरीरिकी क्रिया एवं प्रतिक्रिया का संचालन होता है।

अब यदि द्वितीय विशेष की व्याख्या की बात करे तो इसके अंतर्गत स्पर्शन्द्रिओ की भूमिका को प्रतिपादित किया गया है। शिश्न और यौनि अत्यंत संवेदनशील स्पर्शन्द्रिया है। इन्ही का पारस्परिक मिलन एवं घर्षण सम्भोग की परिभाषा है। जिसकी अंतिम परिणीति चरमो उत्कर्ष एवं स्खलन में होती है।

दाम्पत्य

कामसूत्र ने दाम्पत्य उल्लास एवं संतृप्ति के लिए यौन-क्रीड़ा को आधार माना है। दाम्पत्य जीवन में उल्लास एवं उमंग का संचार तभी होता है जब पति-पत्नी दोनों में मानसिक तालमेल हो, दोनों एक दूसरे के परिपूरक बनने का प्रयास करे तथा यौन क्रीड़ा के समय पारस्परिक सहयोग करे।

और अपने लक्ष्य की ओर आत्मविश्वास के साथ निरंतर आगे बढ़ते रहे। दाम्पत्य जीवन में सतत रसवर्षा के लिए महर्षि ने अपने कामसूत्र में में यौन प्रेम का उद्घाटन किया है एवं यौन क्रीड़ा तथा तकनिकी का सूक्ष्म तथा विस्तृत रूप से वर्णन प्रस्तुत किया है।

काम एक अत्यंत शक्तिशाली मूल परवर्ती है काम ही जीवन का सम्पदन, जीवन का उद्गम, उसके अस्तित्व तथा उसकी गतिशीलता तथा नर-नारी के पारस्परिक आकर्षण एवं सम्मोहन का रहस्य है। वास्तव में काम ही विवाह एवं दाम्पत्य सुख-शान्ति की आधारशिला है।

काम का का सम्मोहन ही नर-नारी को वैवाहिक सूत्र में आबन्धन करता है। अतः विवाहित जीवन में आनंद की निरंतर रस वर्षा करते रहना ही कामसूत्र का वास्तविक उद्देशय है।

कामसूत्र ग्रन्थ का महत्व

अब भी ज्यादातर भारतीयों का मानना है कि सेक्स ज्ञान के लिए दूसरी शताब्दी में वात्स्यायन द्वारा लिखी गयी ‘कामसूत्र’ से बेहतर कोई किताब नहीं है। लेकिन कामसूत्र की प्रसिद्धि सिर्फ भारत तक ही नहीं है,बल्कि दुनिया की कई भाषाओ में में इसका अनुवाद किया गया है।

कामसूत्र ग्रन्थ ने लोगो तक सेक्स ज्ञान को परोसने में अहम भूमिका निभाई है। कामसूत्र महर्षि वात्स्यायन द्वारा लिखा गया भारत का प्राचीन कामशास्त्र ग्रन्थ है। दुनिया भर में यौन बीमारियों और एड्स के बढ़ते चलन के कारण इस प्राचीन पुस्तक पर लोगो का खूब ध्यान आकर्षित हुआ है।

कामसूत्र सेक्स संबंधित समस्याओ के निवारण के लिए सहायता प्रदान करता है तथा सेक्स संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। कामसूत्र में सेक्स समन्धित ज्ञान को जाने के लिए कई लोगो की उत्सुकता बढ़ी है। खासकर पश्चिम के देशो में यह सर्वाधिक लोकप्रिय है। कामसूत्र को विभिन्न आसनो के लिए भी जाना जाता है।

Kamasutra Book in Hindi

प्राक-क्रीड़ा

प्राक क्रीड़ा को यौन जीवन की नीव कहा जाता है। क्योकि इसका संबंध कही न कही स्खलन और सम्भोग के समय मिलने वाले चरम सुख से होता है।

स्पर्श

जीवन का एक बहुत ही प्रमुख उपादान होता है, स्पर्शभाव। प्राक क्रीड़ा के समय वैसे तो स्तरीय बहुत ज्यादा शर्माती है, नखरे करती है, पुरुष की बाजुओं से छूटने की कोशिश करती है। लेकिन उनके इस तरह के विरोध में उनकी हर न में स्पर्श बिन्दुओ को बढ़ाने का ही मकसद मौजूद रहता है।

इस बात को तो सभी को मानना पड़ेगा कि स्पर्श ही असल में काम-उत्तेजना को जगाने की सबसे पहली सीढ़ी है।

चुंबन

महर्षि वात्स्यायन ने प्राक क्रीड़ा तथा सम्भोग करने के समय में चुंबन को बहुत ज्यादा महत्व दिया है। इसकी वजह यह है कि यौन क्षेत्र में स्नायविक, शक्ति को शक्ति को जागृत करने के लिए चुंबन से बढ़कर कोई दूसरा साधन नहीं है।

होंठ

होठो की त्वचा तथा श्लेष्मिक झिल्ली के बिच में एक बहुत ही अनुभूतिपूर्ण भाग होता है, जो ज्यादातर नजरिये से यौनि तथा युनिगहवर के बिच के भाग की तरह होता है। इस भाग में जब पुरुष अपनी जीभ से स्पर्श करता है तो स्त्री के शरीर में एक बहुत ही उत्तेजना की लहर दौड़ जाती है, जो सम्भोग क्रिया में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

गंध

हर स्त्री और पुरुष के शरीर में अपनी-अपनी एक अलग तरह की गंध होती है, जो पुरुष या स्त्री में युवावस्था की शुरुआत में ही पैदा हो जाती है। यही गंध पुरुष और स्त्री के स्नायुओ में उत्तेजन पैदा करके उनकी सम्भोग करने की इच्छा को तेज करती है।

बहुत बार देखने या सुनने में आता है कि किसी बहुत ही सूंदर स्त्री ने किसी साधारण लड़के से विवाह कर लिया या किसी बड़ी उम्र की स्त्री ने किसी छोटे उम्र के लड़के के साथ भागकर विवाह का लिया। इस तरह की प्रमुख खबरों के पीछे इस गंध का ही सबसे बड़ा हाथ होता है।

हास्य-व्यंग्य

किसी तरह का हंसी-मजाक, संगीत, कहानिया आदि शरीर में एक प्रकार की उत्तेजना पैदा करती है। इस प्रकार जिन कारणों से आनंद की चाँद परवर्ती बढ़ती है, उनका काम हम पर निश्चित रूप से उत्तेजक तथा उत्साह बढ़ाने वाला प्रभाव पड़ता है। यह बात पूरी तरह से सामने आ चुकी है कि संगीत में स्त्रियों का असीम प्यार भरा होता है।

आवाज

पुरुष की आवाज का स्त्रियों पर बहुत ज्यादा असर पड़ता है। असल जिंदगी में बहुत बार स्त्रियों को सिर्फ पुरुषो की आवाज सुनकर ही फ़िदा होते पाया गया है। इसलिए वात्स्यायन ने सम्भोग क्रिया में आनंद बढ़ाने के लिए आवाज पर ज्यादा जोर दिया गया है।

नजर

नजर से एक-दूसरे के प्रति आसक्त होकर सम्भोग क्रिया तक पहुंचने का एक बहुत बड़ा अंग माना जाता है। जब स्त्री और पुरुष एक-दूसरे के प्यार में पड़ते है तो उनकी पहली नजर ही आपस में मिलती है।

बूढ़ा हो या जवान हर कोई किसी न किसी प्रकार के उत्तेजक द्र्श्यो को देखने के लिए बेचैन रहता है। सूंदर चीज को देखने के लिए प्यास हर आँख को रहती है।

FAQs : Kamasutra Book in Hindi PDF

Kamasutra Book in Hindi PDF Free Download कैसे करें?

यदि आप महर्षि वात्स्यायन द्वारा लिखी गयी कामसूत्र ग्रन्थ नामक पुस्तक Pdf फॉर्मेट में प्राप्त करना चाहते है तो पोस्ट में दिए गए Download बटन पर क्लिक करके आसानी से फ्री में डाउनलोड कर सकते है।

स्त्री और पुरुष के संभोग में कितनी कलाएं होती है?

स्त्री और पुरुष के संभोग में 64 कलाएं होती है।

काम कला क्या है?

काम कला से तात्पर्य पूर्ण संभोग या रति सुख प्राप्त करने की कला से है।

आलिंगन कितने प्रकार के होते हैं?

इसके बाद वे आलिंगन के प्रमुख आठ प्रकारों का वर्णन करते हैं। इनमें चार प्रकार के आलिंगन स्पृष्टक, विद्धक, उद्धृष्टक, पीड़ितक उन प्रेमी-प्रेमिकाओं द्वारा किए जाते हैं, जो प्रेम में हैं लेकिन सहवास नहीं किया है।

Conclusion:-

इस पोस्ट में Kamasutra Book in Hindi PDF निःशुल्क रुप से उपलब्ध करवाई गयी है। साथ ही इस ग्रन्थ का मानवीय जीवन में महत्व समझाया गया है। उम्मीद करते है कि Kamasutra PDF Pustak Download करने में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं हुई होगी।

यह पोस्ट आपको जरूर पसंद आयी होगी। यदि आपको Kamasutra PDF BooK Download करने में किसी भी प्रकार की समस्या आ रही हो तो कमेंट करके जरूर बताये। साथ ही Kamasutra Hindi Pdf पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Download More PDF:-

Show More
यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi