Electrical

6KW Solar Panel Price in India with Subsidy | भारत में घर के लिए सब्सिडी के साथ 6KW सोलर सिस्टम की कीमत और लागत जानें

6KW Solar Panel Price in India with Subsidy: सौर ऊर्जा के द्वारा पर्यावरण को बिना प्रदूषित किये बिजली उत्पन्न किया जाता है। सौर ऊर्जा में सूर्य से आने वाली प्रकाश को  सौर ऊर्जा प्रणाली अवशोषित करके विद्युत के रूप में परिवर्तित करती है। जो हमारे आवासीय बिजली की आवश्यकता को पूर्ति करता है। पारंपरिक बिजली बिल के समस्या से राहत प्राप्त करने के लिए लोगों का रुख सोलर पैनल सिस्टम के तरफ जा रहा है। इसके अलावा सोलर पैनल सिस्टम को लोगों के घर के छत के ऊपर स्थापित करने के लिए सरकार के द्वारा सब्सिडी के रूप में प्रोत्साहन दिया जाता है जिससे लोग भारी मात्रा में अपनी दैनिक बिजली की आवश्यकता को पूर्ति करने के लिए सोलर पैनल सिस्टम को अपने घर के छत के ऊपर स्थापित कर रहे हैं। ऐसे में यदि आप लोग अपने बड़े इमारत एवं बड़े घर के लिए सोलर पैनल सिस्टम को स्थापित करने का विचार कर रहे हैं तो 6 किलो वाट सोलर पैनल आप लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प बन सकता है।

तो आईए हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से भारत में सौर ऊर्जा का महत्व | Importance of Solar Energy in India, आवासीय 6KW सोलर सिस्टम के प्रकार | Types of Residential 6KW Solar Systems, 6kw सौर पैनलों की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक | Factors Affecting the Price of 6KW Solar Panels | भारत में 6KW सोलर सिस्टम की कीमत | Price of a 6KW Solar System in India, 6 किलोवाट सोलर सिस्टम बैटरी की कीमत के साथ | 6KW solar System with Battery Price, 6 किलोवाट सौर पैनलों का कार्य | 6KW Solar Panels Working, 6 किलोवाट सौर प्रणाली तथ्य और लाभ | 6KW Solar system Facts & Benefits, भारत में 6 किलोवाट सौर प्रणाली स्थापना लागत | 6KW Solar System Installation Cost in India, भारत में 6KW सोलर पैनल के लिए सब्सिडी | Subsidy for 6KW Solar Panels in India संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान कर रहे हैं इसलिए आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

Table of Contents

6KW Solar Panel Price in India – Overview

आर्टिकल का नाम 6KW Solar Panel Price in India with Subsidy
आर्टिकल का प्रकार सोलर पैनल
आर्टिकल का भाषा हिंदी
उद्देश्य 6 किलोवाट सोलर पैनल का कीमत सब्सिडी के साथ जानकारी प्रदान करना।
लाभार्थी भारत के उपभोक्ता
सोलर पैनल क्षमता 6 किलोवाट
6 किलोवाट सोलर पैनल का कीमत ब्रांड और दक्षता के अनुसार

Also Read: Government Solar Panel Scheme 2024

भारत में सौर ऊर्जा का महत्व | Importance of Solar Energy in India

भारत में कई जगह पर बिजली की समस्या एवं बिजली बिल की समस्या से राहत प्राप्त करने के लिए भारत में सौर ऊर्जा का महत्व बढ़ गया है। भारत में सौर ऊर्जा का महत्व निम्नलिखित है:-

  • सौर ऊर्जा के द्वारा बिजली प्राप्त करने के लिए शुरुआती निवेश के बाद कम खर्चीला होता है।
  • सौर ऊर्जा का उपयोग  बिजली उत्पादन करने के लिए किया जा सकता है जो हमारे घर,व्यावसायिक क्षेत्र, और उद्योग को विद्युत प्रदान कर सकता है।
  • सौर ऊर्जा का उपयोग मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में जहां बिजली की समस्या होती है वहां खाना पकाने के लिए किया जा सकता है।
  • प्रदूषण मुक्त इलेक्ट्रिक वाहन को चलाने में सौर ऊर्जा का उपयोग किया जा सकता है।
  • सौर ऊर्जा का उपयोग करके आप लोग अपनी बिजली की बिल में कमी कर सकते हैं।
  • सरोज का उपयोग करके आप लोग पर्यावरण को स्वच्छ रख सकते हैं।

इसके अलावा हम लोग सौर ऊर्जा का उपयोग करके देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।

आवासीय 6KW सोलर सिस्टम के प्रकार | Types of Residential 6KW Solar Systems

पिछले कुछ वर्ष में सौर प्रौद्योगिकी का विकास काफी तेजी के साथ हुआ है। आवासीय घरों के मालिकों के लिए उनके आवश्यकता के अनुसार सोलर सिस्टम विभिन्न प्रकार के होते हैं। यदि आप लोग अपने घरों में 6 किलो वाट सोलर पैनल को स्थापित करने का विचार कर रहे हैं तो बाजार में इनके तीन प्रकार के विकल्प उपलब्ध है। इन तीन प्रकार के सोलर पैनल का दक्षता अलग-अलग है। इन सोलर पैनल का विशेषता भी अलग-अलग है।

  • ऑन ग्रिड सौर प्रणाली
  • ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम
  • हाइब्रिड सौर प्रणाली

यह भी पढ़ें: ऑन ग्रिड और ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम में क्या अंतर है?

  1. ऑन ग्रिड सौर प्रणाली

एक ऑन-ग्रिड सौर ऊर्जा संयंत्र उपयोगिता ग्रिड से जुड़ा है। ये सौर पीवी सिस्टम केवल तभी बिजली उत्पन्न करते हैं जब उपयोगिता पावर ग्रिड उपलब्ध हो। 

इसलिए, वे केवल तभी कार्य कर सकते हैं जब बिजली ग्रिड उपलब्ध हो। यह सौर ऊर्जा संयंत्र उन लोगों के लिए उत्कृष्ट है जो अपने बिजली बिल पर पैसा बचाना चाहते हैं।

इस प्रणाली के माध्यम से लोग अतिरिक्त बिजली को ग्रिड में स्थानांतरित कर सकते हैं। नेट मीटर इस बिजली हस्तांतरण को रिकॉर्ड करता है ताकि लोग बिना किसी अतिरिक्त राशि का भुगतान किए आसानी से बिजली का उपयोग कर सकें।

2. ऑफ ग्रिड सोलर सिस्टम

सुविधाजनक उपयोग के लिए परिवर्तित डीसी को संरक्षित करने के लिए एक ऑफ-ग्रिड सौर ऊर्जा संयंत्र को बैटरी से जोड़ा जाता है। यह प्रणाली उन क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है जहां वाणिज्यिक बिजली आपूर्ति की कमी है या जहां अक्सर बिजली कटौती होती है। 

ऑफ-ग्रिड सौर प्रणाली को डीसी को सौर पैनल से एसी में परिवर्तित करने के लिए एक सौर पैनल, चार्ज नियंत्रक, बैटरी बैंक और एक सौर इन्वर्टर की आवश्यकता होती है। 

बैटरी बैंक दिन के दौरान सूरज की किरणों से प्राप्त अतिरिक्त बिजली को संग्रहीत करता है ताकि रात के दौरान या सूरज की रोशनी की अनुपस्थिति में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके।

3. हाइब्रिड सोलर सिस्टम

यह प्रणाली ऑफ-ग्रिड और ऑन-ग्रिड दोनों सौर प्रणालियों का एक संयोजन है। इस प्रणाली में, ऊर्जा के संरक्षण और उपयोग के लिए सौर मंडल एक ग्रिड और बैटरी बैंकों के एक सेट दोनों से जुड़ा होता है। 

इस प्रणाली के माध्यम से, लोग अपने बिजली बिल में वृद्धि किए बिना अपनी बिजली की खपत को अधिकतम कर सकते हैं। यह भविष्य के उद्देश्यों के लिए बिजली पैदा करने और उपयोग करने का सबसे कुशल और टिकाऊ विकल्प है।

Also Read: जानें साल 2024 में सोलर पैनल की लागत कितनी होगी?

6kw सौर पैनलों की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक | Factors Affecting the Price of 6KW Solar Panels

6kW सौर पैनलों की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित है:-

  • सौर पैनल के प्रकार:- 6 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत को सौर पैनल के प्रकार सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। यदि आप लोग उच्च दक्षता वाले मोनोक्रिस्टलाइन पैनल को चुनते हैं तो इसकी कीमत अधिक होगी जबकि पॉलीक्रिस्टलाइन पैनल  की कीमत कम होता है।
  • इन्वर्टर गुणवत्ता:- 6 किलो वाट सोलर पैनल के कीमत को इनवर्टर गुणवत्ता भी प्रभावित करता है। आप जितनी अच्छी गुणवत्ता इनवर्टर का चयन करेंगे कीमत उतना ही ज्यादा अधिक होगा।इनवर्टर सोलर पैनल का एक महत्वपूर्ण अंग होता है सौर ऊर्जा से बिजली ऊर्जा में परिवर्तित करने में इसका महत्वपूर्ण योगदान होता है। 
  • स्थापना जटिलता:- 6किलो वाट सोलर पैनल घर के छत के ऊपर स्थापित करना एक महत्वपूर्ण कठिन कार्य होता है। जो कीमत को अत्यधिक प्रभावित करता है। घर के छत के ऊपर लगाए गए सोलर पैनल जमीन पर लगाया गया सोलर पैनल की अपेक्षा अत्यधिक सस्ता होता है।
  • स्थान:- आपका 6 किलो वाट सोलर पैनल की कीमत को स्थान भी काफी प्रभावित करता है। आप जिस स्थान पर रहते हैं उस स्थान का जलवायु, सूर्य का प्रकाश ,मौसम इत्यादि उच्चतम ऊर्जा उत्पादन करने के लिए सोलर पैनल के संख्याओं को प्रभावित करता है और इस प्रकार सोलर पैनल की संख्या बढ़ने से इसकी कीमत भी बढ़ जाएगी।
  • सरकारी सहायता:- भारत में कई राज्यों में सरकार के द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रोत्साहन एवं सब्सिडी प्रदान की जाती है। अर्थात सरकारी सहायता भी 6 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत को प्रभावित कर सकता है।
  • वारंटी एवं रखरखाव:- उच्च दक्षता वाले सोलर पैनल का कीमत अधिक होता है लेकिन यह एक लंबी वारंटी के साथ आता है। जिससे दीर्घकालीन रखरखाव कीमत कम हो जाता है।
  • ऊर्जा आवश्यकता:- सोलर पैनल का कीमत को आपकी ऊर्जा आवश्यकता भी काफी प्रभावित करता है। आपके आवश्यक ऊर्जा को पूर्ति करने के लिए एक बड़े सोलर प्रणाली की आवश्यकता पड़ती है।

भारत में 6KW सोलर सिस्टम की कीमत | Price of a 6KW Solar System in India

एक 6 किलोवाट सौर ऊर्जा प्रणाली प्रति दिन 4500 वाट तक प्रदान कर सकती है और प्रति दिन 24 यूनिट का बिजली उत्पादन करती है। यह 3 बीएचके और बड़े घर को 6 से 15 घंटे तक आसानी से बिजली दे सकता है, यह रेफ्रिजरेटर और एसी के साथ प्रमुख उपकरणों के आपके उपयोग पर निर्भर करता है।हालांकि 6 किलोवाट सौर प्रणाली की सटीक कीमत अलग-अलग होगी। किसी तीसरे पक्ष के स्रोत पर निर्भर रहने के बजाय, लागत निर्धारित करने के लिए किसी प्रतिष्ठित सौर ऊर्जा कंपनी से संपर्क करना सबसे अच्छा है। सौर प्रणाली के प्रकार के अनुसार इसका कीमत कम या ज्यादा हो सकता है हम आपको 6 किलोवाट सोलर प्रणाली के प्रकार के अनुसार इसकी कीमत की जानकारी टेबल के माध्यम से निम्न रूप  से प्रदान कर रहे हैं:-

नमूना 6 किलो वाट सौर मूल्य
6 किलोवाट ऑन-ग्रिड सौर प्रणाली 3,00,000/- रु.
6 किलोवाट ऑफ-ग्रिड सौर प्रणाली 4,20,000/- रु.
6 किलोवाट हाइब्रिड सौर प्रणाली 5,40,000/- रु.

भारत में, आप 6kW सौर ऊर्जा प्रणाली पर 20% सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं जो सरकार द्वारा दी जाती है। यहां वे कीमतें हैं जिनकी आप सब्सिडी के साथ 6 किलोवाट सौर ऊर्जा प्रणाली के लिए उम्मीद कर सकते हैं |

6  किलोवाट सोलर सिस्टम बैटरी की कीमत के साथ | 6KW Solar System With Battery Price

6 किलोवाट सोलर सिस्टम बैटरी की कीमत के साथ गुणवत्ता एवं ब्रांड के ऊपर निर्भर करता है। 6 किलोवाट सोलर पैनल के सिस्टम में सबसे ज्यादा 150Ah की बैटरी का उपयोग होता है। क्योंकि अधिकतर घरों में पंखे ,कूलर ,लाइट आदि चलते हैं। इसलिए इस स्थिति में एक साधारण बैटरी बैकअप की आवश्यकता होती है। 6 किलो वाट सोलर सिस्टम,150Ah की 8 बैटरियां उत्पादित बिजली को संग्रहीत करने के लिए पर्याप्त हैं। (15000×8=1,20,000) बैटरी के साथ इसकी कीमत लगभग 4,68,000 तक हो सकता है।

6 किलोवाट सौर पैनलों का कार्य | 6KW Solar Panels Working

सोलर पैनल एक फोटोवोल्टिक मॉडल है जो सूरज से आने वाली ऊष्मीय ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करता है। ज्यादातर सोलर पैनल सिलिकॉन से बने होते थे। सोलर पैनल सूर्य से आने वाली किरणों को दिष्ट धारा (DC) में परिवर्तित करते हैं जिसके बाद हम उसको इन्वर्टर द्वारा प्रत्यावर्ती धारा (AC) में बदल कर प्रयोग करते हैं।और इस प्रकार यह परिवर्तित ऊर्जा हमारे घर या कार्यालय के बिजली की आवश्यकता को पूर्ति करता है। 

6 किलोवाट सौर प्रणाली तथ्य और लाभ | 6kw Solar System Facts & Benefits

यदि आप लोग अपने घर के छत के ऊपर 6 किलो वाट सोलर प्रणाली को स्थापित करने का योजना बना रहे हैं तो इस प्रणाली से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य है जिसे आप लोगों को जानना अति आवश्यक है:-

  • 6 किलोवाट का सोलर सिस्टम औसतन एक दिन में 30 यूनिट बिजली उत्पन्न करता है। यह एक महीने में 900 यूनिट और एक साल में 10800 यूनिट होती है।
  • अधिकांश सौर कंपनियां सौर पैनलों पर 25 साल की प्रदर्शन वारंटी और सौर प्रणाली से जुड़े अन्य प्रमुख घटकों पर 5-10 साल की उत्पाद वारंटी प्रदान करती हैं।
  • नेट मीटरिंग प्रणाली केवल हाइब्रिड और ऑन-ग्रिड सौर ऊर्जा प्रणालियों को नियंत्रित करती है।
  • केवल हाइब्रिड और ऑन-ग्रिड सोलर सिस्टम ही केंद्रीय और राज्य सब्सिडी के लिए पात्र हैं। और, ऑफ-ग्रिड सोलर सिस्टम के लिए कोई सब्सिडी उपलब्ध नहीं है।
  • 6 किलोवाट सोलर प्रणाली पर आप 20% का सब्सिडी प्राप्त कर सकेंगे।
  • 6 किलो वाट सोलर प्रणाली को स्थापित करने के लिए 40 वर्ग मीटर की जगह की जरूरत पड़ती है।

2 किलोवाट सोलर प्रणाली का निम्नलिखित लाभ है:-

  • 6 किलोवाट सौर प्रणाली का उपयोग करने से बिजली के बील के समस्या से  काफी हद तक राहत प्रदान होता  हैं क्योंकि यह सोलर पैनल प्रणाली सूर्य के प्रकाश से बिजली उत्पादन करता है। जिससे हम लोगों को पारंपरिक प्रत्येक महीना जो बिजली का बिल आता है उससे राहत प्रदान होता है।
  • 6 किलो वाट सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से पर्यावरण स्वच्छ रहता है इसका उपयोग करने से पर्यावरण में किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं फैलता है।
  • सोलर पैनल प्रणाली को स्थापित करने में एक बड़ा निवेश लगता है अर्थात सोलर प्रणाली को एक बार पैसा लगाकर इंस्टॉल कर लेने से कम से कम 25 वर्ष तक इसके द्वारा उत्पन्न बिजली का लाभ उठा सकते हैं।
  • 6 किलो वाट सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से इसका रखरखाव खर्चा काफी कम होता है। क्योंकि सोलर पैनल प्रणाली काफी मजबूत होता है।
  • सोलर पैनल प्रणाली का उपयोग करने से भारत सरकार और राज्य सरकार के द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाती है।

भारत में 6किलोवाट सौर प्रणाली स्थापना लागत | 6KW Solar System Installation Cost in India

भारत में 6 किलोवाट के सोलर सिस्टम की अनुमानित कीमत  रु. 2,85,000 रुपया से लेकर 2,95,000 रुपये होता है। 6 किलो वाट के सोलर सिस्टम का मूल्य ग्राहकों के द्वारा पसंद किए गए डिजाइन और अनुकूलन के अनुसार भिन्न हो सकता है। किसी घर के लिए सौर ऊर्जा की सटीक लागत निर्धारित करते समय, कई कारकों को ध्यान में रखा जाता है। इनमें सौर पैनलों और अन्य घटकों की गुणवत्ता और स्थापना की लागत शामिल है। आपकी छत या जमीन पर सौर पैनल स्थापित करने के लिए अधिकतम सूर्य की रोशनी को पकड़ने के लिए पैनलों को सही कोण पर सुरक्षित करने के लिए एक माउंटिंग संरचना की आवश्यकता होती है।

यदि आपके पास स्वयं इंस्टॉलेशन पूरा करने के लिए सही ज्ञान और उपकरण हैं, तो इंस्टॉलेशन लागत आपके लिए न्यूनतम होगी। हालाँकि, यदि आप पेशेवर मदद चाहते हैं, तो शुल्क अलग-अलग हो सकते हैं। अधिकांश समय, स्थापना लागत कुल सिस्टम पैकेज में शामिल होती है। 

भारत में 6kw सोलर पैनल के लिए सब्सिडी | Subsidy for 6kw Solar Panels in India

भारत में 6 किलोवाट सोल प्रणाली की कीमत सब्सिडी के साथ आवासीय प्रतिष्ठानों के लिए सौर ऊर्जा को अधिक किफायती बनाती है।सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से सौर सब्सिडी  के लाभ लोगों तक पहुंच रही है जो केवल स्थानीय ग्रिड से जुड़ने वाली प्रणालियों के लिए उपलब्ध है। ग्रिड-बंधित सौर प्रणाली के लिए सरलीकृत छत सौर स्थापना के बारे में एमएनआरई की घोषणा के अनुसार, अब आप अपनी पसंद की किसी भी सौर ऊर्जा कंपनी से अपना छत सौर पीवी संयंत्र  खरीद सकते हैं और अपने खाते में सब्सिडी का दावा कर सकते हैं। सरकारों द्वारा दी जाने वाली विभिन्न प्रणाली क्षमताओं के लिए सब्सिडी की विशिष्ट दर इस प्रकार है:

छत पर सौर प्रणाली की क्षमता लागू सब्सिडी (₹)
3 किलोवाट तक 18,000/किलोवाट
3 किलोवाट से ऊपर और 10 किलोवाट तक 9,000/किलोवाट*
10 किलोवाट से ऊपर 1,17,000**

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आप लोगों को काफी पसंद आया होगा ऐसे में आप हमारे आर्टिकल संबंधित कोई प्रश्न सुझाव है तो आप लोग हमारे कमेंट्स बॉक्स में आकर अपने प्रश्नों को पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का जवाब जरूर देंगे।

FAQ’s:

Q. क्या भारत में 6kW सौर ऊर्जा प्रणालियाँ सब्सिडी के लिए पात्र हैं?

Ans. हां, आप भारत में 6kW ऑन-ग्रिड और हाइब्रिड सोलर सिस्टम पर सरकार द्वारा दी जाने वाली 20% तक की सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं। ऑफ-ग्रिड सौर ऊर्जा प्रणाली पर कोई सब्सिडी नहीं है।

Q.क्या 6kW सोलर सिस्टम वारंटी के साथ आता है?

Ans. हां, सोलर पैनल पर 25 साल की वारंटी के साथ-साथ पूरे सोलर सिस्टम पर 5 साल की वारंटी है।

Q.6 किलोवाट का सौर ऊर्जा सिस्टम कितना भार ले सकता है?

Ans.एक 6 किलोवाट का सौर पैनल 3 बीएचके और बड़े घर के लिए 6 – 15 घंटे के लिए पर्याप्त है, यह रेफ्रिजरेटर और एसी के साथ प्रमुख उपकरणों के आपके उपयोग पर निर्भर करता है।

Q. 6kW सोलर सिस्टम में सोलर पैनल की सफाई कैसे करें?

Ans.अपने सोलर पैनल को साफ करने के लिए आप विशेषज्ञों द्वारा सलाह दी गई सोलर पैनल क्लीनिंग किट का उपयोग कर सकते हैं। समय-समय पर अपने सोलर पैनल की सफाई करने से पैनल की दक्षता का स्तर बना रहता है और उसका जीवन बढ़ता है।

Show More
यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi