CBSE Class 10CBSE Class 11CBSE Class 12CBSE CLASS 9

विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र | Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF (2024)

नमस्कार दोस्तों, आज की इस पोस्ट में हम आपको भगवान विष्णु जी के एक हजार नामों का प्रसिद्ध भजन Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF उपलब्ध करवाने वाले है।

विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र को हिन्दू धर्म में बहुत ही पवित्र और शक्तिशाली भजन माना जाता है और भगवान विष्णु के लाखो भक्तों द्वारा इसे प्रतिदिन सुना और गाया जाता है। अगर आप भी भगवान विष्णु के भक्त है और विष्णु जी की कृपा के पात्र होना चाहते है तो आपको इस भजन का जाप अवश्य करना चाहिए।

माना जाता है की जो व्यक्ति पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ इस भजन का जाप करता है उसके जीवन में शांति और समृद्धि आती है और इस मंत्र का जाप करने से जीवन की सभी बाधाओं को दूर किया जा सकता है साथ ही आप पर भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है।

अगर आप भी श्री विष्णु सहस्रनामम स्तोत्र का जाप करना चाहते है लेकिन यह आपके पास उपलब्ध नहीं है तो आप इस पोस्ट में दिए Download लिंक से Vishnu Sahasranamam PDF Download कर सकते है।

Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF Overview

Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF
PDF Title श्री विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र
Category धार्मिक और आध्यात्मिक
Language हिंदी
PDF Size 0.190 MB
Total Pages 16
Download Link Available

Shree Vishnu Sahasranamam Stotra Lyrics

नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरोत्तमम् ।

देवीं सरस्वतीं व्यासं ततो जयमुदीरयेत् ॥

ॐ अथ सकलसौभाग्यदायक श्रीविष्णुसहस्रनामस्तोत्रम् ।

शुक्लाम्बरधरं विष्णुं शशिवर्णं चतुर्भुजम् ।

प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये ॥ १॥

यस्य द्विरदवक्त्राद्याः पारिषद्याः परः शतम् ।

विघ्नं निघ्नन्ति सततं विष्वक्सेनं तमाश्रये ॥ २॥

व्यासं वसिष्ठनप्तारं शक्तेः पौत्रमकल्मषम् ।

पराशरात्मजं वन्दे शुकतातं तपोनिधिम् ॥ ३॥

व्यासाय विष्णुरूपाय व्यासरूपाय विष्णवे ।

नमो वै ब्रह्मनिधये वासिष्ठाय नमो नमः ॥ ४॥

अविकाराय शुद्धाय नित्याय परमात्मने ।

सदैकरूपरूपाय विष्णवे सर्वजिष्णवे ॥ ५॥

यस्य स्मरणमात्रेण जन्मसंसारबन्धनात् ।

विमुच्यते नमस्तस्मै विष्णवे प्रभविष्णवे ॥ ६॥

ॐ नमो विष्णवे प्रभविष्णवे ।

     श्रीवैशम्पायन उवाच —

श्रुत्वा धर्मानशेषेण पावनानि च सर्वशः ।

युधिष्ठिरः शान्तनवं पुनरेवाभ्यभाषत ॥ ७॥

     युधिष्ठिर उवाच —

किमेकं दैवतं लोके किं वाप्येकं परायणम् ।

स्तुवन्तः कं कमर्चन्तः प्राप्नुयुर्मानवाः शुभम् ॥ ८॥

को धर्मः सर्वधर्माणां भवतः परमो मतः ।

किं जपन्मुच्यते जन्तुर्जन्मसंसारबन्धनात् ॥ ९॥

     भीष्म उवाच —

जगत्प्रभुं देवदेवमनन्तं पुरुषोत्तमम् ।

स्तुवन् नामसहस्रेण पुरुषः सततोत्थितः ॥ १०॥

तमेव चार्चयन्नित्यं  भक्त्या पुरुषमव्ययम् ।

ध्यायन् स्तुवन् नमस्यंश्च यजमानस्तमेव च ॥ ११॥

NOTE- विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र को पूरा पढ़ने और Shree Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF Free Download करने के लिए नीचे दिए Download Link पर क्लिक करे। 

श्री विष्णु सहस्रनाम स्तोत्र क्या है

दो प्रमुख हिन्दू महाकाव्य रामायण और महाभारत में से विष्णु सहस्रनाम महाभारत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसा माना जाता है की इसे सबसे पहले महाभारत के प्रमुख योद्धा भीष्म पितामह द्वारा गाया गया था और इसकी रचना ऋषि वेद व्यास द्वारा की गयी थी जिन्हे महाभारत के लेखक होने का श्रेय भी दिया जाता है।

इस भजन की शुरुआत भगवान विष्णु की प्रार्थना के साथ होती है और फिर एक विशिष्ट क्रम में भगवान विष्णु के हजार नामों की स्तुति होती है, प्रत्येक नाम के पहले “ॐ” शब्द का उच्चारण होता है जिसे ब्रम्हांड की मूल ध्वनि भी माना जाता है।

इस भजन में कई सारे छंद भी शामिल है जो विष्णु भगवान के विभिन्न रूपों की विशेषताओं का वर्णन करते है जैसे की भगवान विष्णु की चार भुजाएँ, उनका शंख, उनका सुदर्शन चक्र और उनका कमल का फूल आदि।

विष्णु सहस्रनाम भजन को मुख्य रूप से पूजा और भक्ति के रूप में सुना और गाया जाता है और यह माना जाता है की इस भजन को सुनने और गाने के कई अलग-अलग लाभ है।

श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ अक्सर धार्मिक समारोह के दौरान और गृहप्रवेश के समारोह के दौरान भी किया जाता है। कई लोगो द्वारा इस भजन का दैनिक प्रार्थना के रूप में भी पाठ किया जाता है।

हिन्दू परंपरा के अनुसार, इस भजन का पाठ करने से घर में धन, शांति और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। यह भी माना जाता है की इस भजन का पाठ करने वाले व्यक्ति की बुरी शक्तियों से रक्षा होती है और वह जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति पा लेता है।

Shri Vishnu Sahastranaam Path PDF क्या है

आज के डिजिटल जमाने में बहुत से लोग धार्मिक ग्रंथो या भजनो के लिरिक्स को ऑनलाइन डिजिटल प्रारूप में एक्सेस करना पसंद करते है जिससे उन्हें इसका इस्तेमाल करने में आसानी हो।

श्री विष्णु सहस्रनाम हिंदी अर्थ सहित PDF भगवान विष्णु के एक हजार नामों वाले प्रसिद्ध भजन की एक डिजिटल कॉपी है जिसे इस पोस्ट में पीडीऍफ़ प्रारूप में उपलब्ध करवाया गया है और आप बिना किसी शुल्क के आसानी से इसे अपने डिवाइस में Download करके सुरक्षित कर सकते है।

Vishnu Sahasranamam PDF Download करने के फायदे

विष्णु सहस्रनाम पीडीऍफ़ को डाउनलोड करने के बाद आप इसे किसी भी डिवाइस में आसानी से बिना Internet के भी Access कर सकते है और इसे अपनी सुविधानुसार कही भी किसी भी समय पढ़ सकते है।

पीडीऍफ़ प्रारूप में श्री विष्णु सहस्रनाम भजन को डाउनलोड करने के बाद आप इस भजन को अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करना आपके लिए आसान हो जाता है।

क्योकि पीडीऍफ़ को आसानी से किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर) में एक्सेस किया जा सकता है और कही पर भी और किसी भी समय इस भजन का जाप किया जा सकता है।

अगर आप भी श्री विष्णु सहस्रनाम हिंदी पीडीऍफ़ को डाउनलोड करना चाहते है तो इस पोस्ट में दिए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आसानी से निशुल्क इस पीडीऍफ़ को अपने डिवाइस में सुरक्षित डाउनलोड कर सकते है।

FAQs:- Vishnu Sahasranamam Path in Hindi PDF

विष्णु सहस्रनाम कब पढ़ना चाहिए?

दिन की शुरुआत में सुबह सुबह सूर्योदय के दौरान विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना उचित माना जाता है। हालाँकि अगर आपके मन में सच्ची श्रद्धा है तो दिन में किसी भी समय इस भजन का पाठ किया जा सकता है।

Conclusion –

तो दोस्तों आशा करते है आपको हमारी यह पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी और इस पोस्ट में साझा श्री विष्णु सहस्रनाम भजन पीडीऍफ़ से सम्बंधित जानकारी और Vishnu Sahasranamam in Hindi PDF आपके लिए जरूर उपयोगी रही होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसे अपने सोशल मीडिया पर सभी विष्णु भक्तो के साथ जरूर शेयर करे साथ ही अगर आपको हमारी इस पोस्ट में उपलब्ध पीडीऍफ़ को डाउनलोड करने में कोई भी समस्या आ रही है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Download More PDFs:-

Show More

Related Articles

यौगिक किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार और विशेषताएं | Yogik Kise Kahate Hain Circuit Breaker Kya Hai Ohm ka Niyam Power Factor Kya hai Basic Electrical in Hindi Interview Questions In Hindi